अब आईआरसीटीसी से नहीं मिलेगा ट्रैवल इंश्योरेंस, देश में बदले ये पांच क़ायदे-कानुन…

रेलवे की इंश्योरेंस, इनकम टैक्स रिटर्न, गाड़ी का इंश्योरेंस समेत कई बदलाव लागु

नई दिल्ली। जी बिल्कुल सही पढ़ा अपने ! आईआरसीटीसी आज से अपने यात्रियों को किसी भी प्रकार की कोई राहत राशि नहीं देगा। जब तक यात्री अपना प्रीमियम नहीं देंगे तब तक उन्हें किसी प्रकार की कोई राहत राशि का भुगतान नहीं किया जाएगा। ये राशि फिलहाल 1 रुपए से शुरू की गई है, जिसे दुरी के मुताबिक तय किया जाएगा।

IRCTC

ट्रैन में सफर के दौरान अगर कोई भी दुर्घटना होती है तो रेलवे उन्ही यात्रियों को राशि का भुगतान करेगा, जिन्होंने रिजर्वेशन के दौरान अपना प्रीमियम भरा है। इसके लिए रिजर्वेशन के दौरान ही भुगतान किया जाना होओगे। जिसमे किसी रेल दुर्घटना के दौरान होने वाली मौत पर 10 लाख रूपए, बॉडी पार्टी डैमेज़ होने की दशा में 7 लाख 50 हज़ार रूपए और घायल होने की स्तिथि में 2 लाख रूपए देने का प्रावधान किया गया है।

आईआरसीटीसी के आलावा ये भी हुए बदलाव
सितंबर महीने की पहली तारीख से न केवल आईआरसीटीसी ने अपने नियम बलदे है बल्कि इसके समेत देशभर में कुल 5 नियम संशोधित होकर आज से लागू हुए है। जिसमें इनकम टैक्स रिटर्न भरने में बदलाव, तंबाकू उत्पादों पर नई चेतावनी का नियम, गाड़ियों के इंश्योरेंस के नियम में बदलाव किए गए है। इसके साथ ही भारतीय डाक विभाग ने आज से देशभर में पोस्ट पेमेंट बैंक की शुरूवात की है।

नौकरी : 5 वीं पास बेरोजगारों को मिल सकती है सरकारी नौकरी…

ये है डाक विभाग का ” पोस्ट पेमेंट बैंक “
सरकार 1 सितंबर यानी आज से देश भर में पोस्ट पेमेंट बैंक शुरू हो गया है। इसके जरिये डाक पहुंचाने वाला डाकिया अब गांव और कस्बों के घर-घर तक बैंकिंग सेवाएं पहुंचाएगा। डाकिया बैंक खाते खोलने से लेकर पैसे जमा करने तक काम काम करेगा। आईपीपीबी की देश के हर जिले में न्यूनतम एक शाखा होगी। इसे पूरे देश में पहुंचाने के लिए डाक विभाग के डिस्ट्रीब्यूशन नेटवर्क का इस्तेमाल किया जाएगा। देश भर में 40 हजार पोस्ट मैन हैं और 2.6 लाख डाक सेवक है। सरकार इन सभी का इस्तेमाल बैंकिंग सेवाओं को घर-घर पहुंचाने के लिए करने जा रही है।