आईएसआई ने हाफिज सईद और सलाहुद्दीन से कहा, घाटी में आतंकियों को भेजो

सलाहुद्दीन और सईद अमेरिकी विदेश विभाग की ओर से विशेष रूप से घोषित 'वैश्विक आतंकवादी' हैं

सुमित कुमार सिंह ,नई दिल्ली| भारत ने नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर पाकिस्तान की ओर से की जाने वाली घुसपैठ पर काफी हद तक लगाम कसने में सफलता हासिल की है। इस बीच पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) ने लश्कर-ए-तैयबा के प्रमुख हाफिज सईद और हिज्बुल मुजाहिदीन के प्रमुख सैयद सलाहुद्दीन के साथ बैठक कर आतंकवादियों को अशांति फैलाने के लिए कश्मीर घाटी में धकेलने को कहा है। एक शीर्ष सरकारी सूत्र ने सोमवार को यह जानकारी दी।

सलाहुद्दीन और सईद अमेरिकी विदेश विभाग की ओर से विशेष रूप से घोषित ‘वैश्विक आतंकवादी’ हैं।

सीमा पार आतंकियों की घुसपैठ को अंजाम देने के लिए पाकिस्तान की आईएसआई ने चार अक्टूबर, 2020 को कोटली में सात अक्टूबर, 2020 को निकिल में आतंकी संगठनों के प्रमुखों के साथ एक उच्चस्तरीय बैठक की है।

बैठक में सैयद सलाहुद्दीन और हाफिज सईद के साथ ही सभी लॉन्च पैड के कमांडरों, विभिन्न तंजीमों के गाइड और अन्य प्रमुख आतंकियों ने भाग लिया।

सूत्र ने कहा कि प्रत्येक तंजीम को 20 लाख रुपये आवंटित किए गए हैं और इसके साथ ही अगर उनके द्वारा सफल संचालन किया जाता है तो 30 लाख रुपये अतिरिक्त देने का वादा भी किया गया है।

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में नियंत्रण रेखा के पार विभिन्न लॉन्च पैड्स में लगभग 270 से 300 आतंकवादी डेरा डाले हुए हैं। सूत्रों ने आगे बताया कि वे घाटी में सर्दियों में पड़ने वाली भारी बर्फ से पहले घुसपैठ की कोशिश कर रहे हैं।

यह भी पाया गया कि जम्मू एवं कश्मीर में पाकिस्तान के साथ नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ काफी हद तक रुक गई है। नियंत्रण रेखा कश्मीर के क्षेत्र में भारत और पाकिस्तान के बीच एक वास्तविक सीमा है। पिछले साल 130 घुसपैठ हुई थी और इस साल अब तक 27 की मौत हो चुकी है।

इसके अलावा नियंत्रण रेखा के पास कुछ लॉन्च पैड पर बॉर्डर एक्शन टीम (बैट) की कार्रवाई सक्रिय हो गई है।

सूत्र ने कहा, “80 आतंकवादियों के एक समूह को किरेन सेक्टर के सामने अठमुकाम, दुधनियाल और ठंडापानी क्षेत्रों के लॉन्च पैड पर देखा गया है।”

जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा के साथ नीलम घाटी के पास तंगधार सेक्टर के सामने 10 आतंकवादियों का एक समूह घुसपैठ की योजना बना रहा है और उन्होंने बैट कार्रवाई की भी योजना बनाई है। इसके अलावा, 40 आतंकवादियों के एक समूह को पुंछ क्षेत्र के विपरीत पाया गया है, जो सुजियन क्षेत्र में जैश-ए-मोहम्मद और अल बदर के समूह के पाकिस्तान के गांवों में डेरा डाले हुए हैं।

सूत्रों ने यह भी बताया कि 20 आतंकवादियों के एक समूह को मदारपुर और नटार इलाकों में कृष्णाघाटी के सामने देखा गया है, जहां वे डेरा डाले हुए हैं।

इसके अलावा 35 आतंकवादियों के एक अन्य समूह को घुसपैठ के लिए भीमबर गली शिविर के सामने देखा गया।

–आईएएनएस