झारखंडः राहुल ने केवल 5 सभाएं कीं और जीत दिलाई मोदी से ज्यादा

वोट 2 फीसदी ज्यादा पर एक दर्जन सीटें गईं

 

 

रांची।  झारखंड नतीजों ने बता दिया है कि राहुल गांधी कमतर नहीं रहे जिस तरह से पप्पू कहकर आलोचना की जाती रही है। चुनाव प्रचार में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 10 सभाएं लीं, गृहमंत्री अमित शाह ने 7 सभाएं लीं और राहुल गांधी ने 5 सभाएं लीं। प्रधानमंत्री ने जिन 10 जगहों पर सभाएं लीं  उनमें से केवल 3 जगहों पर जीत पाए यहां तक कि अपने सीएम तक को नहीं बचा पाए। गृहमंत्री ने 7 सभाएं ली इनमें से केवल 2 पर ही भाजपा ने जीत दर्ज की। वहीं राहुल गांधी ने केवल 5 सभाएं कीं और 4 पर कांग्रेस का परचम लहराया। इस तरह देखें तो  पीएम मोदी के मुकाबले आधी सभाएं कर जीत की बराबरी कर ली। यानि राहुल जनता पर अपना असर छोड़ने में कामयाब रहे।

मोदी की 10 सभाओं में गुमला हारे, डाल्टनगंज जीते, खूंटी जीते , जमशेदपुर पूर्व आर पश्चिम हारे, वरही हारे, बोकारो जीते दुमका और बरहेट हारे।

शाह की  7 सभाओं में मिनका लोहरदगा, चक्रधरपुर, बहरागॊडा गिरीडीह हारे, देवधर और बाघमरा जीते।

राहुल गांधी ने इस चुनाव में सिमडेगा, राजमहल, बड़कागांव, खिजरी और महागामा में कुल पांच चुनावी रैलियां की। इनमें से सिर्फ राजमहल सीट से कांग्रेस प्रत्याशी को हार का समना करना पड़ा, बाकी चार सीटों पर कांग्रेस के प्रत्याशी विजयी हुए।

कांग्रेस की स्टार प्रचारक प्रियंका गांधी ने इस चुनाव में सिर्फ पाकुड़ में एक चुनावी रैली को संबांधित किया, जहां से कांग्रेस प्रत्याशी आलमगीर आलम ने राज्य में सर्वाधिक मतों के अंतर (65,108 मतों से) से जीत दर्ज की है।

इस चुनाव में झामुमो के स्टार प्रचारक हेमंत सोरेने ने कुल 54 सीटों पर प्रत्याशियों के प्रचार के लिए 126 चुनावी रैलियों को संबोधित किया, जिसमें से 47 सीटों पर गठबंधन के प्रत्याशी विजयी हुए हैं।

बीजेपी की सहयोगी  आजसू पिछली विधानसभा में सिर्फ आठ सीटें लड़कर पांच सीटों पर जीती थी, जबकि इस बार उसने 53 सीटें लड़कर महज दो सीटों पर जीत हासिल की.

वोट 2 फीसदी ज्यादा पर एक दर्जन सीटें गईं

भाजपा को 2014 के मुकाबले इस बार करीब 2 फीसदी ज्यादा वोट हासिल हुआ इसके बाद भी  उसे 12 सीटें कम मिली हैं। इस बार विधानसभा चुनाव में बीजेपी को 33.37 फीसदी वोट मिले हैं। साल 2014 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को 31.26 फीसदी वोट मिले थे। सात महीने पहले राज्य में 51 फीसदी की जबरदस्त वोट हासिल करने वाली पार्टी इस बार विधानसभा चुनाव में करीब 33 फीसदी वोटों तक सिमटी।  पिछले  चुनाव में जहां 37 सीटें जीती थीं, वहीं वह इस बार पार्टी सिर्फ 25 पर सिमट गई है। (इनपुट आइएएनएस से भी)

संबंधित पोस्ट

जशपुर से सटे झारखंड में नक्सल हत्या !

गौरी लंकेश हत्या मामले का संदिग्ध झारखंड से गिरफ्तार

सैनिक पति की लाश देख पत्नी ने भी जान दे दी

झारखंडः किसके कितने होंगे मंत्री, कयास जारी

झारखंडः सोरेन के शपथ ग्रहण समारोह में विपक्ष का महाजुटान

सिंहदेव को फिर बड़ी जिम्मेदारी, झारखंड के लिए बनाए गए पर्यवेक्षक

झारखंडः कमल की एक पंखुड़ी फिर टूटी

झारखंड : इन पांच कारणों ने छीन लिया रघुवर के सिर से ताज

झारखंड चुनाव : सुबह 11 बजे तक 29.19 प्रतिशत मतदान

झारखंड : दो बच्चियों के साथ दुष्कर्म, महिलाओं का फूटा गुस्सा

झारखंड : हिंसा के बीच 18 सीटों पर दूसरे चरण का मतदान समाप्त

Big News : छत्तीसगढ़ कांग्रेस के सह प्रभारी भाजपा में हुए शामिल