प्रदर्शन के बाद वापस ली गई JNU हॉस्टल की बढ़ी हुई फीस

जेएनयू कार्यकारी समिति ने किया ऐलान

नई दिल्ली। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने दिल्ली की जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में हॉस्टल की फीस बढ़ाने का फैसला वापस ले लिया है। बीते दिनों छात्रों ने इसको लेकर जबरदस्त विरोध प्रदर्शन किया था। जेएनयू कार्यकारी समिति की बैठक में यह फैसला लिया गया। शिक्षा सचिव आर सुब्रह्मण्यम ने ट्विटर पर इसकी जानकारी दी। उन्होंने यह भी कहा कि आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के छात्रों की मदद के लिए एक अतिरिक्त योजना शुरू की जा रही है।

आर सुब्रह्मण्यम ने अपने ट्वीट में लिखा, “जेएनयू कार्यकारी समिति ने हॉस्टल शुल्क और अन्य शर्तों में रोल-बैक की घोषणा की। इसके अलावा ईडब्ल्यूएस छात्रों को आर्थिक सहायता के लिए एक योजना का प्रस्ताव है। कक्षाओं में वापस आने का समय है।” जेएनयू छात्र ने मसौदा हॉस्टल मैनुअल को वापस लेने की मांग की थी। इन छात्रों का कहना है कि इस मसौदे में फीस बढ़ोतरी, ड्रेस कोड तथा कर्फ्यू टाइमिंग जैसे प्रावधान हैं। छात्र संघ ने मसौदा हॉस्टल मैनुअल के विरोध में पहले हड़ताल की थी। जब सरकार ने कोई कदम नहीं उठाया तो विरोध प्रदर्शन किया।

संबंधित पोस्ट

जेएनयू हिंसा : व्हाट्सएप्प ग्रुप के फोन जब्त करने के आदेश

दिल्ली पुलिस ने की व्हाट्सएप्प ग्रुप ‘यूनिटी अगेंस्ट लेफ्ट’ के 37 सदस्यों की पहचान

जेएनयू पर डाॅ.रमन सिंह, बेनकाब हुए लेफ्ट समर्थक युवकों के चेहरे

पाखंडी, रेप के आरोपी स्वामी ओम की स्वरा पर गालियों की बौछार

जेएनयू हिंसा : हिंदू रक्षा दल ने ली जिम्मेदारी

जेएनयू हिंसा : जेएनयूएसयू की अध्यक्ष आइशी घोष सहित 19 के खिलाफ मामला दर्ज

उद्धव ठाकरे ने कहा- आतंकी हमले की तरह जेएनयू हिंसा

दिल्ली में जेएनयू छात्राओं के साथ मारपीट के विरोध में रायपुर में प्रदर्शन

जेएनयू हिंसा के लिए आखिर जिम्मेदार कौन?

जेएनयू में हिंसा से स्तब्ध हूं : केजरीवाल

रणभूमि में तब्दील हुआ जेएनयू कैम्पस

JNU छात्रों को भड़का रहे थे विपक्षी बड़े नेता, अगुवा बने थे वाम संगठन