जेएनयू हिंसा : व्हाट्सएप्प ग्रुप के फोन जब्त करने के आदेश

नई दिल्ली। दिल्ली हाईकोर्ट ने मंगलवार को दिल्ली पुलिस को निर्देश दिया कि वह ‘फ्रेंड्स ऑफ आरएसएस’ और ‘यूनिटी अगेंस्ट लेफ्ट’ (यूएएल) व्हाट्सएप ग्रुप के फोन जब्त करे। हाईकोर्ट का यह आदेश पांच जनवरी को जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में हुई हिंसा के संबंध पर आया है। अदालत ने दिल्ली पुलिस को निर्देश दिया कि वह इन दोनों ग्रुप के सदस्यों को तलब कर इनके फोन जब्त करे।

न्यायमूर्ति बृजेश सेठी ने व्हाट्सएप और गूगल को अपनी नीति के अनुसार ईमेल आईडी सहित मूल ग्राहक जानकारी के आधार पर डेटा को संरक्षित करने का निर्देश दिया। यह निर्देश तब आया जब अदालत ने जेएनयू के तीन प्रोफेसरों द्वारा दायर एक याचिका पर सुनवाई की। इस याचिका में मांग की गई थी कि सीसीटीवी फूटेज और व्हाट्सएप ग्रुप से संबंधित साक्ष्य को संरक्षित रखा जाए।

वकीलों अभीक चिमनी, मानव कुमार और रोशनी नंबूदरी के माध्यम से दायर याचिका में जेएनयू परिसर के सभी सीसीटीवी फूटेज को पुन: प्राप्त करने के लिए दिल्ली पुलिस को निर्देश देने की मांग की गई है।

सुनवाई के दौरान गूगल के वकील ने तर्क दिया कि व्हाट्सएप को चाहिए कि वह ईमेल एड्रेस को शेयर करे। ऐसा करने के बाद ही सर्च इंजन द्वारा साक्ष्य संरक्षित किए जा सकेंगे।

इसके जवाब में व्हाट्सएप ने कहा, “हमारे पास चैट कंटेंट का एक्सेस नहीं है। हम इसे शपथ पत्र में दायर कर सकते हैं।”

संबंधित पोस्ट

दिल्ली पुलिस ने की व्हाट्सएप्प ग्रुप ‘यूनिटी अगेंस्ट लेफ्ट’ के 37 सदस्यों की पहचान

जेएनयू पर डाॅ.रमन सिंह, बेनकाब हुए लेफ्ट समर्थक युवकों के चेहरे

दिल्ली हाईकोर्ट ने 15 से छपाक की स्क्रीनिंग पर लगाई रोक

पाखंडी, रेप के आरोपी स्वामी ओम की स्वरा पर गालियों की बौछार

जेएनयू हिंसा : हिंदू रक्षा दल ने ली जिम्मेदारी

जेएनयू हिंसा : जेएनयूएसयू की अध्यक्ष आइशी घोष सहित 19 के खिलाफ मामला दर्ज

उद्धव ठाकरे ने कहा- आतंकी हमले की तरह जेएनयू हिंसा

जेएनयू हिंसा के लिए आखिर जिम्मेदार कौन?

जेएनयू में हिंसा से स्तब्ध हूं : केजरीवाल

रणभूमि में तब्दील हुआ जेएनयू कैम्पस

JNU छात्रों को भड़का रहे थे विपक्षी बड़े नेता, अगुवा बने थे वाम संगठन

प्रदर्शन के बाद वापस ली गई JNU हॉस्टल की बढ़ी हुई फीस