उद्धव ठाकरे ने कहा- आतंकी हमले की तरह जेएनयू हिंसा

मुंबई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने नई दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में रविवार को हुई हिंसा की तुलना 12 साल पहले 26 नवंबर, 2008 को मुंबई में हुए आतंकवादी हमले से की है। ठाकरे ने हिंसा की निंदा करते हुए कहा, “हमलावरों ने अपने चेहरे क्यों ढक रखे थे? वे क्यों छिप रहे हैं? मुझे 26/11 के मुंबई आतंकवादी हमले की याद आ गई है। वे कायर हैं।”

उन्होंने कहा, “देशभर के विद्यार्थियों में डर का माहौल है। हम सभी को एक साथ आकर विद्यार्थियों में आत्मविश्वास भरना होगा।”

उन्होंने कहा, ” जेएनयू में हमला करने वाले नकाबपोश हमलावर कायर हैं। हिंसा में लिप्त लोगों को बेपर्दा किए जाने की जरूरत है और उनके चेहरे को पूरे देश के सामने बेनकाब किया जाना चाहिए।”

वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में हुई हिंसा की निंदा करते हुए सोमवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर तीखा हमला बोला और कहा कि इस पूरे मामले की स्वतंत्र न्यायिक जांच होनी चाहिए।

दबाई जा रही है भारत के युवाओं की आवाज : सोनिया

सोनिया ने एक बयान में कहा, “भारत के युवाओं और छात्रों की आवाज हर दिन दबाई जा रही है। भारत के युवाओं पर भयावह एवं अप्रत्याशित ढंग से हिंसा की गई और ऐसे करने वाले गुंडों को सत्तारूढ़ मोदी सरकार की ओर से उकसाया गया है। यह हिंसा निंदनीय और अस्वीकार्य है।”

उन्होंने कहा, “पूरे भारत में शैक्षणिक परिसरों और कॉलेजों पर भाजपा सरकार से सहयोग पाने वाले तत्व एवं पुलिस रोजाना हमले कर रही है। हम इसकी निंदा करते हैं और स्वतंत्र न्यायिक जांच की मांग करते हैं।”

साथ ही सोनिया ने कहा, “जेएनयू में छात्रों एवं शिक्षकों पर हमले इस बात का प्रमाण हैं कि यह सरकार विरोध के हर स्वर को दबाने के लिए किसी भी हद तक जाएगी।”

उन्होंने कहा कि कांग्रेस देश के युवाओं और छात्रों के साथ खड़ी है।

संबंधित पोस्ट

कश्मीर : कुलगाम के आरा इलाके में हुई मुठभेड़ में 1 आतंकवादी ढेर

कोरोना मरीजों के शवों से भर गया दिल्ली का पंजाबी बाग श्मशान घाट, वीडियो वायरल

राहुल ने पर्यावरण दिवस पर संत कबीर के दोहे साझा किए

गुजरात : कांग्रेस को एक और झटका, मोरबी विधायक ने इस्तीफा दिया

सरकार प्रवासियों की दुर्दशा देखे, उन्हें 7,500 रुपये दे : सोनिया

लॉकडाउन से कोई नतीजा नहीं, बल्कि जनता को हुआ भारी नुकसान : राहुल गांधी

मप्र : सिंधिया के प्रभाव वाले जिलों की कांग्रेस कार्यकारिणी भंग

पीएम केयर फंड पर कांग्रेस के ट्वीट के लिए सोनिया के खिलाफ एफआईआर

कोरोना काल में कांग्रेस का संघ पर निशाना, कहां गई RSS और उनकी जनसेवा ?

सीधे गरीबों की जेब में दें पैसा, पैकेज पर दुबारा विचार करें

राहुल गांधी ने समर्थकों की उम्मीदों पर फेरा पानी, वापसी न करने के दिए संकेत

ईस्ट इंडिया कंपनी की तरह व्यवहार कर रही केंद्र सरकार : कांग्रेस