केरल : सीएए पर सर्वदलीय बैठक से भाजपा का बहिर्गमन

सुप्रीम कोर्ट के निर्देश का है इन्तजार- कुमार

तिरुवनंतपुरम,(आईएएनएस)| नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) को लेकर रविवार को मुख्यमंत्री पिनरई विजयन द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक से केरल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेताओं ने बहिर्गमन किया। भाजपा राज्य इकाई ने इस बैठक को असंवैधानिक और आलोकतांत्रिक करार देते हुए कहा कि यह बैठक सीएए को लेकर चर्चा के लिए बुलाई गई है, जो पहले ही कानून बन चुका है।

राज्य के संसदीय कार्य मंत्री ए. के. बालन के अनुसार, केरल की विधानसभा ने अन्य मुद्दों के साथ-साथ नागरिकता संशोधन अधिनियम पर चर्चा के लिए विशेष सत्र बुलाया।

भाजपा का प्रतिनिधित्व एम. एस. कुमार और जे. आर. पद्मकुमार ने किया। उन्होंने कहा कि जैसे ही उन्होंने बैठक में अपनी बात रखी, ‘वापस जाओ, वापस जाओ’ के नारे लगे और उसके बाद वे बैठक से उठकर बाहर चले गए। जाने से पहले उन्होंने कहा कि कर्नाटक और केरल में हुई हिंसक घटनाओं के लिए एक निंदा प्रस्ताव पारित किया जाना चाहिए, जहां राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान के भाषण को शनिवार को बाधित किया गया। एम. एस. कुमार ने कहा, “सीएए कानून है और अब क्या किया जा सकता है, जब तक सुप्रीम कोर्ट इस बारे में कोई आदेश नहीं देता, सभी को चाहिए कि वे इंतजार करें।”