लाहौर हाईकोर्ट ने सजा के खिलाफ मुशर्रफ की अर्जी लौटाई

लाहौर। लाहौर हाईकोर्ट (एलएचसी) ने पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ की वह याचिका लौटा दी, जिसमें उन्होंने राजद्रोह मामले में सुनाई गई सजा को चुनौती दी थी। अदालत ने सर्दियों की छुट्टियों के दौरान पूर्ण पीठ उपलब्ध न हो पाने का हवाला देते हुए याचिका लौटाई है। डॉन न्यूज के मुताबिक, ख्वाजा अहमद तारिक रहीम और अजहर सिद्दीकी के एक कानूनी पैनल ने शुक्रवार को अर्जी दायर की थी, जिसमें राजद्रोह की शिकायत से शुरू होने वाले सभी कार्यो, विशेष ट्रायल कोर्ट की स्थापना और इसकी कार्यवाही को चुनौती दी गई थी।

एलएचसी के मुख्य न्यायाधीश सरदार मुहम्मद शमीम खान द्वारा हाल ही में गठित तीन न्यायाधीशों वाली पूर्ण पीठ 9 जनवरी, 2020 को मुख्य याचिका को देखने वाली है।

एडवोकेट सिद्दीकी ने डॉन न्यूज को बताया कि एलएचसी रजिस्ट्रार के कार्यालय ने शुक्रवार को याचिका वापस कर दी, क्योंकि शीतकालीन अवकाश के दौरान पूर्ण पीठ उपलब्ध नहीं थी। उन्होंने कहा कि याचिका जनवरी के पहले सप्ताह में फिर से दाखिल की जाएगी।

विशेष अदालत ने 17 दिसंबर को अपने फैसले की घोषणा की थी और मुशर्रफ को 2-1 के बहुमत के साथ मौत की सजा सुनाई थी।

(आईएएनएस)

संबंधित पोस्ट

एफएटीएफ की बैठक में पाकिस्तान और मोहलत मांगेगा

कराची के तीन अस्पतालों में 2019 में यौन उत्पीड़न के 545 मामले

अख्तर ने की रोहित की पारी की तारीफ

‘पाक में 50 अल्पसंख्यक लड़कियों का जबरन धर्मांतरण, सरकार मौन’

पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा पर गोलीबारी की, मोर्टार दागे

मुशर्रफ की मुश्किलें बढ़ीं, मौत की सजा के खिलाफ सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

पाकिस्तान में 300 से अधिक सांसदों-विधायकों की सदस्यता निलंबित

पाक में सर्दी का कहर, अब तक 109 मौतें

पाकिस्तान : आईएमएफ कर्ज की किस्त के तहत फूटने जा रहा है बिजली-गैस बम

पाकिस्तान में 28 साल बाद श्मशान स्थल से अवैध कब्जा हटा

पाकिस्तान के ननकाना साहिब की घटना का मुख्य आरोपी गिरफ्तार

ननकाना साहिब पर हमले के खिलाफ भारत में प्रदर्शन शुरू