भूस्खलन और बाढ़ से इंडोनेशिया में 100 से ज्यादा लोगों की मौत

माउंट लेवोतोलो से ज्वालामुखी का मलबा रविवार को भारी बारिश के बाद घरों में घुस गया

 

जकार्ता| अधिकारियों और मीडिया रिपोटरें के अनुसार, इंडोनेशिया में पूर्वी नुसा तेंगारा प्रांत में बाढ़ और भूस्खलन की चपेट में आने से 100 से अधिक लोगों की मौत हो गई जबकि दर्जनों लापता हैं।

लिम्बाटा जिले के प्रमुख थॉमस ओला ने डीपीए समाचार एजेंसी को बताया, माउंट लेवोतोलो से ज्वालामुखी का मलबा रविवार को भारी बारिश के बाद घरों में घुस गया। जिसमें 20 लोग मारे गए और 60 से अधिक लापता हो गए।

उन्होंने कहा, चौदह गांव में अभी भी पूरी तरह से तLandslides, floods kill over 100 in Indonesiaबाही मची हुई हैं, सड़कें पूरी तरह से डूब चुकी हैं।

उन्होंने कहा, मरने वालों की संख्या बढ़ने की संभावना है क्योंकि अभी भी गांवों से जानकारी जुटाई जा रही है।

मेट्रो टीवी समाचार चैनल की रिपोर्ट के अनुसार, प्रांत के एक अन्य हिस्से में बाढ़ और भूस्खलन के बाद रविवार को अदोनारा द्वीप के गांवों में मरने वालों की संख्या बढ़कर 73 हो गई।

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन एजेंसी के प्रवक्ता रेडिटी जाती ने कहा, समुद्रों के कारण द्वीप तक पहुंचने में मुश्किल हो गई थी।

आपदा एजेंसी के अनुसार, पास के अलोर द्वीप पर आपदाओं में कम से कम 11 लोग मारे गए।

उन्होंने कहा, 100 से अधिक घर क्षतिग्रस्त हो गए और पांच पुल ढह गए।

मौसम विज्ञान और मौसम विज्ञान एजेंसी ने भविष्यवाणी की कि इंडोनेशिया के कुछ हिस्सों में अत्यधिक मूसलाधार बारिश, तेज हवाएं का सामना करना पड़ सकता है।

उष्णकटिबंधीय चक्रवात सेरोजा आने वाले दिनों में तेज हो सकता है और उम्मीद की जा रही है कि यह दक्षिण-पश्चिम में इंडोनेशिया से दूर होगा।

राष्ट्रपति जोको विडोडो ने कहा, “वह आपदाओं से बहुत दुखी हैं।”

उन्होंने कहा, “आपदाओं से प्रभावित हमारे साथी नागरिकों की दुर्दशा को समझ सकता हूं।”

“मैं इस आपदा की चपेट में आये लोगों के स्वास्थ्य की देखभाल, भोजन और अन्य बुनियादी जरूरतों के तत्काल प्रावधान करने को कहा है।”

आपदा प्रबंधन एजेंसी के अनुसार, इंडोनेशिया में जनवरी से लेकर अब तक लगभग 1,000 आपदाएं आ चुकी हैं, जिनमें ज्यादातर बाढ़ और भूस्खलन शामिल हैं।

उन्होंने कहा, कम से कम 337 लोग मारे गए हैं, 55 लापता हैं और 43 लाख लोग प्रभावित हुए हैं।

–आईएएनएस