सफल हुआ “मिशन घर वापसी,” अजित बोले मैं NCP का…

शपथ लेने पहुंचे भाई अजित को बहन सुप्रिया ने लगाया गले

मुंबई। महाराष्ट्र में चल रहे राजनीतिक उठापटक के बीच आज विधायकों का साथ ग्रहण समारोह हो रहा है। इस शपथ ग्रहण समारोह में सभी की नज़रे एनसीपी के नेता अजित पवार पर टिकी थी। बुधवार को विधानसभा में शपथ लेने पहुंचे अजित पवार का एनसीपी नेताओं की तरफ से भव्य और ज़ोरदार स्वागत किया गया। विधानसभा में जहां एनसीपी के तमाम नेताओं ने पवार को हाथों हाथ लिया, वही शरद पवार की बेटी और अजीत पवार की चचेरी बहन सुप्रिया सुले ने भी उनसे पैर छूकर आशीर्वाद लिया और उन्हें गले से लगाकर ख़ुशी जाहिर की।

इधर विधानसभा में शपथ ग्रहण करने पहुंचे अजीत पवार ने मीडिया से चर्चा के दौरान कहा कि “मैं एनसीपी में ही था, और एनसीपी में ही रहूंगा। अजित ने कहा कि “मेरे पास अभी कहने के लिए कुछ नहीं है, मैं सही समय पर बोलूंगा। मैंने पहले भी कहा था, मैं राकांपा में हूं और मैं राकांपा में ही रहूंगा। भ्रम पैदा करने का कोई कारण नहीं है।” अजित के इस बयान और एनसीपी नेताओं की तरफ से पवार के स्वागत से यह संकेत स्पष्ट हैं कि एनसीपी में अब किसी भी प्रकार का कोई विवाद शेष नहीं है। और पार्टी के प्रमुख शरद पवार ने भी अजीत को माफ कर दिया है।

परिवार ने चलाया मिशन घर वापसी
अजित पवार के बेटे पार्थ पवार, सुप्रिया सुले और पवार परिवार के कई अन्य सदस्यों को “मिशन घरवापसी (घर वापसी)” का काम सौंपा गया था। अंत में, एनसीपी के वरिष्ठ नेताओं ने उन्हें समझाने के लिए अजित पवार के साथ लंबी चर्चा की कि वह अपनी वापसी पर अपना सम्मान और कद बरकरार रखेंगे।
जिसके बाद उन्होंने मंगलवार को बीजेपी की नेतृत्व वाली सरकार से त्यागपत्र दे दिया। इस्तीफे के कुछ घंटे बाद राकांपा नेता अजित पवार मंगलवार रात अपने चाचा और पार्टी प्रमुख शरद पवार के दक्षिण मुंबई स्थित आवास पर मुलाकात भी की थी।