बंगाल में मोदी : आपका थप्पड़ मेरे लिए आशीर्वाद

पश्चिम बंगाल में बोले मोदी 23 मई से दीदी की दमनकारी सत्ता का पतन शुरू

पुरुलिया। पश्चिम बंगाल में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी चुनावी सभा में जमकर हुंकार भरी है। मोदी ने मुख्यमंत्री ममता बैनर्जी पर जमकर निशाना साधा है। मोदी ने उन्हें सभा से बड़ी दीदी बताते हुए सियासी। पीएम मोदी ने ममता बैनर्जी के झापड़ मारने वाले बयान का भी तीखा पलटवार किया है। पीएम मोदी ने ममता बनर्जी के थप्पड़ वाले ब्यान का जवाब देते हुए कहा है मोदी ने दीदी से कहा हैं कि वो मोदी को थप्पड़ मारना चाहती हैं। ममता दीदी मैं तो आपको दीदी कहता हूं, आपका आदर करता हूं। आपका थप्पड़ भी मेरे लिए आशीर्वाद बन जाएगा। लेकिन ये भी कहूंगा कि अगर आपने अपने उन साथियों को थप्पड़ मारने का दम दिखाया होता, जिन्होंने चिटफंड के नाम पर गरीबों की कमाई लूट ली, तो आपको इतना डर ना लगता। अगर आप उन टोलाबाज़ों को थप्पड़ मारतीं तो आज ट्रिपल T यानि तृणमूल टोलाबाज टैक्स का दाग आप पर ना लगता।

बंगाल में मोदी

सभा में सम्बोधन की शुरुवात उन्होंने वहां पहुंची जनता का आभार जताते हुए किया। पीएम ने कहा कि आपके इस प्यार को मैं ब्याज समेत विकास करके लौटाऊंगा। उन्होंने कहा कि आज देश में मोदी को गाली देने का बहुत बड़ा अभियान चल रहा है। पांच चरणों में देश ने एक मत होकर जो मतदान किया है उससे महामिलावटी दल हताश हो चुके हैं। पीएम ने पश्चिम बंगाल के पुरुलिया को सियासी फैसलों का शहर कहते हैं कहा कि पुरुलिया जो आज सोचता है वही कल पश्चिम बंगाल की सोच बन जाती है। जिन्होंने यहां गणतंत्र को गुंडातंत्र में बदला है, उनके दिन अब गिनती के रह गए हैं।

बंगाल में मोदीदीदी की दमनकारी सत्ता का पतन
मोदी ने सभा को आश्वस्त करते हुए कहा कि मैं आपको आश्वासन देने आया हूं कि जिन घुसपैठियों को दीदी ने, टीएमसी ने अपना काडर बनाया है, उनकी चुन-चुन कर पहचान होगी। जो यहां हमारी बेटियों को परेशान करते हैं, हमारे सभ्य बंगाली मानुष को परेशान करते हैं, उनकी पहचान की जाएगी। मोदी ने कहा कि पहला धक्का 23 मई को लगेगा और फिर दीदी की दमनकारी सत्ता का पतन शुरु हो जाएगा। 23 मई के बाद भारत का संविधान सभी का हिसाब करेगा, देश का लोकतंत्र सभी का हिसाब चुकता करेगा।

डर के साए में है जनता
मोदी ने चुनाव के दौरान हुए हमले और झड़पों पर भी तंज़ कसा है। उन्होंने कहा कि मां, माटी और मानुष की बात करके दीदी ने आप सभी का वोट लिया। लेकिन आज पश्चिम बंगाल की क्या स्थिति है? मां अपनी संतानों की सुरक्षा के लिए परेशान है। माटी, लोकतंत्र प्रेमी निर्दोष नागरिकों के खून से लाल रंग में रंग गई है और मानुष डर के साए में जीने को मजबूर है। गुरुदेव ने कहा था ऐसा भारत देखना चाहते हैं – जहां मन भयमुक्त हो, और मस्तक सम्मान से उठा हो लेकिन पहले कांग्रेस और कम्यूनिस्टों ने और अब दीदी ने गुरुदेव की शिक्षा को तार-तार कर दिया।