राजद्रोह मामले में सुप्रीम कोर्ट पहुंचे मुशर्रफ

17 दिसंबर, 2019 को राजद्रोह मामले में मिली थी मौत की सजा

इस्लामाबादपाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ गुरुवार को एक विशेष अदालत के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील दायर की। एक विशेष अदालत ने कुछ समय पहले ही मुशर्रफ को उच्च राजद्रोह मामले में दोषी करार देते हुए मौत की सजा सुनाई थी। डॉन न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, मुशर्रफ ने 90 पृष्ठों की आपराधिक अपील में ट्रायल को संविधान और दंड संहिता 1898 का सरासर उल्लंघन बताया। इसलिए उन्होंने विशेष अदालत के फैसले को रद्द करने की मांग की।

अपील में कहा गया है, “कोई अन्य उपाय, जो माननीय अदालत को उचित लगता हो, उसे भी मंजूर किया जा सकता है।”

लाहौर हाईकोर्ट (एलएचसी) ने सोमवार को विशेष अदालत के गठन को ही असंवैधानिक बता दिया था।

इस्लामाबाद स्थित विशेष अदालत ने 17 दिसंबर, 2019 को मुशर्रफ को मौत की सजा सुनाई थी।

पाकिस्तान के इतिहास में यह पहली बार है कि किसी सैन्य प्रमुख को उच्च राजद्रोह का दोषी घोषित किया गया और उसे मौत की सजा दी गई।

मुकदमे की सुनवाई शुरू होने के छह साल बाद मुशर्रफ को मौत की सजा सुनाई गई। तत्कालीन पीएमएल-एन सरकार द्वारा तीन नवंबर 2007 को संविधान को निलंबित करने के लिए यह मामला दायर किया गया था, जब मुशर्रफ ने देश में आपातकाल लगाया था।

फैसले के बाद की अपनी याचिकाओं में मुशर्रफ ने एलएचसी से कहा था कि वह विशेष अदालत के असंवैधानिक फैसले को अलग रखे। उन्होंने अपनी याचिका पर निर्णय होने तक फैसले को रद्द करने की भी मांग की।

पूर्व सैन्य प्रमुख फिलहाल दुबई में हैं। पिछले महीने उनकी तबीयत बिगड़ने के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था।–(आईएएनएस)

संबंधित पोस्ट

पाकिस्तान में भारतीय उच्चायोग के 2 अधिकारी आफिस जाते लापता

प्रवासी श्रमिकों के लिए रोजगार योजनाएं बनाए : सुप्रीम कोर्ट

ऐसी व्यवस्था बनाएं कि कोई ठेकेदार बच्चों को काम पर न रख सकें : सुप्रीम कोर्ट

ईरानी महावाणिज्यदूतावास की याचिका सुप्रीम कोर्ट में खारिज

सुप्रीम कोर्ट ने CAA के खिलाफ दायर नई याचिकाओं पर केंद्र को भेजा नोटिस

महाप्रबंधक रहे अशोक चतुर्वेदी को बड़ी राहत, सुप्रीम कोर्ट ने FIR पर दिया स्थगन

व्हाट्सएप कॉल पर सुनवाई वर्चुअल कोर्ट में मुश्किल : सुप्रीम कोर्ट

शीर्ष अदालत ने बंद के दौरान पूर्ण वेतन संबंधी सर्कुलर पर रोक लगाई

सुप्रीम कोर्ट की गर्मी की छुट्टियां रद्द, 19 जून तक जारी रहेगा काम

सुप्रीम कोर्ट ने मजदूरों के पलायन पर कहा, अदालत कैसे करे निगरानी

एससी में बनेगी एकल पीठ, जमानत व स्थानांतरण मामलों की होगी सुनवाई

जम्मू-कश्मीर में 4जी सेवा बहाली से सुप्रीम कोर्ट का इनकार