दिल्ली में किन्नरों के लिए खास शौचालय बनवाएगी एनडीएमसी

नई दिल्ली| राष्ट्रीय राजधानी में किन्नरों (थर्ड जेंडर) के लिए एक अच्छी खबर है। यह खबर ‘देर आयद, दुरुस्त आयद’ वाली कहावत को चरितार्थ करती प्रतीत हो रही है। नई दिल्ली नगरपालिका परिषद (एनडीएमसी) ने विशेष रूप से, किन्नरों के लिए टॉयलेट बनाने का निर्णय लिया है।

एनडीएमसी ने 2021-2022 के लिए अपने वार्षिक बजट में किन्नरों के लिए विशेष रूप से शौचालयों का निर्माण करने का प्रस्ताव दिया है।

इस प्रोजेक्ट से जुड़े एनडीएमसी के एक वरिष्ठ अधिकरी एचपी सिंह ने आईएएनएस को बताया कि दिल्ली के किन्नर लंबे समय से इस बात की मांग कर रहे हैं कि भीड़-भाड़ वाले इलाकों एवं अधिक व्यस्त रहने वाले बाजारों में विशेष रूप से उनके लिए शौचालय बनवाए जाएं।

उनकी मांग पर गंभीरता से विचार करते हुए एनडीएमसी ने शास्त्री भवन के पास विशेष तौर पर उनके लिए एक शौचालय का निर्माण कराया है।

सिंह ने बताया कि शास्त्री भवन के पास बने शौचालय का फिलहाल इस्तेमाल नहीं हा रहा है। हम एनडीएमसी एरिया में इस तरह के और शौचालय बनाने के उद्देश्य से स्थान का पता लगाने में जुटे हैं।

उन्होंने कहा कि हालांकि किन्नर चाहें तो आमजन के लिए बने सुलभ शौचालयों का इस्तेमाल कर सकते हैं, लेकिन उनमें से अधिकांश विभिन्न कारणों से इनका इस्तेमाल करने में झिझकते हैं। हमें उनकी इच्छाओं का सम्मान करना चाहिए।

गौरतलब है कि पहाड़गंज, दरियागंज, बुराड़ी, शास्त्री पार्क, सुभाष पार्क, लक्ष्मी नगर जैसे इलाकों में किन्नर बड़ी संख्या में, दशकों से रह रहे हैं। लेकिन, राजधानी में अब तक किसी भी सरकारी संस्था ने विशेष रूप से किन्नरों के लिए शौचालय का निर्माण नहीं कराया।

दिल्ली में किन्नरों के लिए खास शौचालय बनवाएगी एनडीएमसी

देश की राजधानी होने के बावजूद दिल्ली में किन्नरों के लिए अब तक कोई शौचालय नहीं बन पाया है। शास्त्री भवन के पास निर्माणाधीन टॉयलेट राजधानी में खास तौर पर किन्नरों के लिए पहला एक्सक्लूसिव टॉयलेट होगा।

सुप्रीम कोर्ट ने 2014 में ट्रांसजेंडरों को थर्ड जेंडर के रूप में मान्यता दी थी। साथ ही केंद्र व राज्यों को किन्नरों के लिए अन्य सुविधाओं के साथ-साथ अलग शौचालय भी बनाने का निर्देश दिया था।

किन्नरों को एक्सक्लूसिव टॉयलेट की सुविधा प्रदान करने वाला देश का पहला शहर मैसुरु था। इसके बाद भोपाल में 2018 में किन्नरों के लिए टॉयलेट का निर्माण कराया गया। इसके बाद कई राज्य सरकारों ने उनके लिए टॉयलेट बनाने का काम शुरू किया।

–आईएएनएस

संबंधित पोस्ट

दिल्ली के स्कूलों ने 12वीं की बोर्ड परीक्षा रद्द करने की सिफारिश की : सिसोदिया

दिल्ली : ब्लैक फंगस ने रोगी की आंत में किया छेद

जीत की लय जारी रखना चाहेगी दिल्ली और पंजाब  

हैदराबाद के विलियम्सन पर होगी नजरें 

दिल्ली : एएसआई ने पीसीआर वैन में खुद को गोली मारी

दिल्ली : 13 वर्षीय बच्चे का लिंग परिवर्तन कर सामूहिक दुष्कर्म, 2 आरोपी गिरफ्तार

दिल्ली : छेड़खानी के 4 मामलों में पुलिस उप-निरीक्षक गिरफ्तार

दिल्ली ने अमित मिश्रा के स्थान पर प्रवीण दुबे के साथ किया करार

दिल्ली : छात्र ने ट्रैफिक पुलिसकर्मी को कार के बोनट पर घसीटा, गिरफ्तार

टिड्डियां भगाने के लिए ढोल, ड्रम और डीजे बजवाएगी दिल्ली सरकार

मप्र में मंत्रिमंडल विस्तार जल्द, संगठन से चर्चा,दिल्ली जाएंगे : शिवराज

निजी अस्पतालों की तय होगी फीस, टेस्टिंग का 50 प्रतिशत कम होगा रेट