हैदाराबाद में डाक्टरों की लापरवाही ऐसी कि गर्भ से निकला नवजात का कटा सिर

दोबारा आपरेशन कर नवजात को पूरी तरह से निकाला बाहर

हैदराबाद। तेलंगाना के नागरकुरनुल जिले के अछमपेट से एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है। प्रसव के दौरान चिकित्सकों की लापरवाही के कारण नवजात का सिर कटकर बाहर आ गया जबकि शरीर का आधा हिस्सा प्रसूता के गर्भ में रह गया। यह घटना आज चर्चा का विषय बना हुआ है। जानकारी के मुताबिक नागरकुरनुल जिले के नादीमपल्ली गांव की 23 वर्षीय स्वाति को 18 दिसंबर को प्रसव पीड़ा होने पर उन्हें परिजनों ने अछमपेट अस्पताल में भर्ती कराया था। वहां पर स्वाति में किसी प्रकार की समस्या नहीं देखी गई और प्रसव आम तरीके से कराये जाने की जानकारी चिकित्सक ने दी थी। इसके बाद डा सुधारानी ने दो अन्य पुरुष चिकित्सकों के साथ स्वाति का प्रसव कराया। लेकिन कुछ समय के बाद स्वाति की स्थिति बिगड़ने की चिकित्सकों ने जब परिजनों को खबर दी, तो उन्होंने स्वाति को हैदराबाद के पेटलाबर्ज मैटरनिटी हास्पिटल में स्थानांतरित कराया गया।
इस अस्पताल में चिकित्सकों ने जांच में पाया कि अछमपेट अस्पताल में स्वाति का आम तरीके से प्रसव न कराकर उसका आपरेशन किया गया था। आपरेशन के वक्त नवजात का सिर कट गया जबकि शरीर का आधा हिस्सा प्रसूता के पेट में अब भी था। इस बारे में चिकित्सकों ने स्वाति के परिजनों को बताया जिसके बाद स्वाति का एक बार फिर आपरेशन के बाद कटे सिर वाले नवजात को पूरी तरह से बाहर निकाल दिया गया।
इस घटना के बाद स्वाति के परिवार ने अछमपेट अस्पताल में अपना रोष व्यक्त किया। गुस्साए परिजनों ने अस्पदताल में तोड़फोड़ भी की। इसे लेकर जिलाधिकारी व जिला चिकिस्ताधिकारी से परिजनों ने शिकायत भी की। शिकायत पाने के बाद जिला चिकित्साधिकारी ने तुरंत ही डा सुधारानी को निलंबित कर दिया। इसके साथ ही जांच कमेटी का गठन कर तुरंत इसकी जांच करने का भी निर्देश दिया।