POK में फर्जी वीडियों बना रहा है पाकिस्तान, भारत में कर रहा वायरल

इंटरनेट मैसेज के सहारे जहर घोलने की कर रहे है कोशिश

नई दिल्ली। पाकिस्तान का प्रचार तंत्र इन दिनों भारत में अफवाओं का बाजार गर्म करने में जूटा हुआ है। न केवल जम्मू-कश्मीर में बल्कि नागालैंड तक में भी पाकिस्तान एक भड़काऊ वीडियो और मैसेज प्रसारित किए जा रहे है। गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इस मामलें में कहा, पाकिस्तान के अधिकारी POK (पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर) में वीडियो शूट करने में व्यस्त हैं। हमारे सुरक्षा बलों की वर्दी में मौजूद पुरुष इन वीडियो में पुरुषों और महिलाओं पर अत्याचार करते नजर आ रहे हैं।”


उनके अनुसार, इन वीडियो को इंटरनेट पर अपलोड किया जा रहा है। इसके साथ ही इस वीडियों को वारयल करने की जिम्मेदारी भी कुछ लोगो को दी गई है। साथ ही इस वीडियों में ये मैसेज दिया जा रहा है कि भारतीय सुरक्षा बल कश्मीर में नागरिकों से दुर्व्यवहार कर रहे हैं। अधिकारियों ने यह भी कहा कि नागालैंड विद्रोही समूहों को संदेश और वीडियो भेजे जा रहे हैं, उन्हें अपनी आवाज उठाने के लिए और नगालैंड के लिए स्वतंत्रता की मांग करने के लिए उकसाया जा रहा है। एक वरिष्ठ मंत्री ने कहा “ये संदेश और वीडियो न केवल विद्रोही नागा समूहों को भेजे जा रहे हैं, बल्कि नागालैंड के अलग राज्य बनने की वकालत करने वाले कार्यकर्ताओं के भी हैं।”

                 अधिकारियों का कहना है कि पाकिस्तान का प्रचार युद्ध कश्मीर में इंटरनेट कनेक्टिविटी अभी भी बहाल नहीं होने का भी एक कारण है। हालांकि अधिकारियों का कहना है कि जम्मू और कश्मीर प्रशासन धीरे-धीरे लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध को हटाया जा रहा है। जैसा कि स्थिति में सुधार हो रहा है, प्रतिबंधों को हटा दिया जा रहा है। हालांकि, इंटरनेट कनेक्शन जल्द ही बहाल नहीं किए जाएंगे क्योंकि पाकिस्तान इंटरनेट के माध्यम से भारत के खिलाफ जहर फैलाना जारी रखता है। वे लोगों को सरकार और ऐसे वीडियो के खिलाफ भड़काने की कोशिश कर रहे हैं, जो पाकिस्तान में उत्पन्न हुए थे।

                यहां तक ​​कि नागालैंड तक पहुंच गए है। इंस्टेंट मैसेजिंग प्लेटफॉर्म व्हाट्सएप का इस्तेमाल जम्मू और कश्मीर में व्यापक रूप से अतीत में सरकार के खिलाफ गलत सूचना देने के लिए किया गया था। अधिकारी ने कहा, “एक बार इंटरनेट बहाल हो जाने के बाद, पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर में लोगों को उकसाने की पूरी कोशिश करेगा, जैसा कि वे अब नगालैंड में विद्रोहियों के साथ कर रहे हैं।”