संसद ने दलितों, शोषितों के लिए पारित किया है सीएए : मोदी

मोदी बोले - कागजों की तिकड़मों में ही योजनाएं दम तोड़

नई दिल्ली (IANS)| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को दिल्ली के रामलीला मैदान में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) को देश की संसद ने दलितों और शोषितों के लिए पारित किया है।
मोदी ने कहा, “भारत की संसद ने आप सबके, खासतौर पर दलितों और शोषितों के उज्जवल भविष्य के लिए सिटिजनशिप अमेंडमेंट बिल पारित किया है। आप खड़े होकर, देश की जनता के चुने हुए हमारे सांसदों, लोकसभा राज्यसभा का सम्मान कीजिए। साथियों मैं भी आपके साथ जुड़ करके देश के सर्वोच्च सदन, उनके जनप्रतिनिधि का सम्मान करता हूं और उनका धन्यवाद करता हूं।”

उन्होंने कहा, “लेकिन भाइयों, इस बिल के पास होने के बाद कुछ राजनीतिक दल तरह-तरह की अफवाहें फैलाने में लगे हैं। ये लोग भ्रमित कर रहे हैं, भावनाओं को भड़का रहे हैं। मैं जरा ये भ्रम फैलाने वाले, झूठ बोलने वाले लोगों से पूछना चाहते हैं, जब हमने दिल्ली के सैकड़ों कॉलोनियों को नियमित किया था, तो क्या हमने आपसे ये पूछा था कि आपका धर्म क्या है, जाति क्या है, क्या आपसे कोई सबूत मांगा था? केंद्र सरकार की इस योजना का लाभ हिन्दुओं को मिला, मुसलमानों को मिला, सिख भाइयों को मिला, इसाइयों को भी मिला। हमने ऐसा क्यों किया? क्योंकि हम देशवासियों के लगाव के साथ जीते हैं। भाइयों और बहनों, अगर थोड़ा सा भी भगवान ने दी हो (बुद्धि) तो उपयोग भी करो । हमने एक ही सत्र में लोगों को अधिकार दिया है, इन दो बिलों के जरिए। मैं इन लोगों को चुनौती देता हूं कि जाइए मेरे काम का पड़ताल कीजिए.. कहीं से भी बू आती हो तो पूरे देश के सामने रख दीजिए।”

प्रधानमंत्री ने कहा कि उज्जवला योजना के तहत गैस धर्म के आधार पर नहीं दिया गया। उन्होंने सवालिया लहजे में कहा, “जब हमने उज्जवला योजना के जरिए आठ करोड़ लोगों को गैस दिया तो क्या हमने उनसे उनका धर्म पूछा था ? मैं इन राजनीतिक दलों से पूछना चाहता हूं कि क्यों आप देशवासियों से झूठ बोल रहे हो ? हम हर गरीब परिवार को उज्जवला योजना का लाभ पहुंचाएंगे, कोई बाकी नहीं रहेगा। पिछले पांच सालों में हमने डेढ़ करोड़ गरीबों का घर बना दिया..हमने किसी से उनकी जाति धर्म नहीं पूछा। हमने सिर्फ उनकी गरीबी देखी। फिर क्यों कुछ लोग झूठ फैला रहे हैं। फिर क्यों कुछ लोग मुसलमानों में भ्रम फैला रहे हैं। उन्हें याद रखना चाहिए कि हमने इन योजना के लाभ के लिए किसी भी प्रकार की कागजों की बंदिशें नहीं लगाईं थी, नहीं तो पहले कागजों की तिकड़मों में ही योजनाएं दम तोड़ जाती थीं।”

मोदी ने स्वास्थ्य योजना का जिक्र करते हुए कहा कि दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ स्कीम आज भारत में चल रही है। प्रधानमंत्री ने कहा, “देश के पचास करोड़ गरीबों को पांच लाख रुपये तक की स्वास्थ्य सुविधा सुनिश्चित की है। दिल्ली सरकार ने ये योजना लागू नहीं की है। लेकिन जिन राज्यों में ये योजना लागू हुई है.. सत्तर लाख लोगों ने, जो अपनी गरीबी के कारण इलाज नहीं करवा पा रहे थे, पीड़ा झेल रहे थे, आज उनका इलाज मुफ्त हो गया।”

संबंधित पोस्ट

भारत हिंदू राष्ट्र होता तो सीएए की जरूरत नहीं पड़ती : हिंदू महासभा

केरल मंत्रिमंडल का सीएए के खिलाफ सख्त रूख

सीएए के खिलाफ रणनीति बनाएंगे विपक्ष दल

सीएए पर अफवाहों को हवा दे रहे कुछ राजनीतिक दल : मोदी

देश के मुसलमानों के लिए हिन्दुस्तान से सुरक्षित जगह कोई नहीं : नकवी

सीएए देशहित में नहीं, राज्य में इसे लागू नहीं होने देंगे : कमलनाथ

सुप्रीम कोर्ट हिंसा रुकने के बाद ही सीएए की वैधता तय करेगा

सीएए पर कांग्रेस की बैठक में शामिल नहीं होंगी ममता बनर्जी

सदफ, दारापुरी जेल से रिहा, संघर्ष जारी रखेंगे

भाजपा के हनी ट्रैप में 52, 72, 000

जामिया में सोमवार से शुरू होगी पढ़ाई

भागवत इंदौर पहुंचे, संघ की बैठक में भाजपा नेता भी लेंगे हिस्सा