बुद्ध, महावीर, गांधी और गुरु नानक के देश में लोग डरकर रह रहे, ये ठीक नही – भूपेश बघेल

नई दिल्ली में आयोजित लीडरशिप समिट में शामिल हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

नई दिल्ली। नई दिल्ली में आयोजित लीडरशिप समिट में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शिरकत की। इस दौरान उन्होंने कहा कि बुद्ध, महावीर, गांधी और गुरु नानक के देश में लोग डरकर रह रहे हैं, यह अच्छा नहीं है। लोगों को अपनी बात कहने की स्वतंत्रता होनी चाहिए।
देश की अर्थव्यवस्था पर अपनी बात रखते हुए कहा कि देश को भावनात्मक आधार पर नहीं चला सकते, इसके लिए अर्थव्यवस्था में सुधार करनी ही होगी। समिट को संबोधित करते हुए बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ में किसानों का कर्ज माफ किया गया है, किसानों से 2500 रुपये क्विंटल धान खरीदा जा रहा है, यही वजह है कि राज्य में मंदी का असर नहीं हुआ है।

छत्तीसगढ़ में ऑटोमोबाइल्स, रियल स्टेट सहित सभी क्षेत्रों में उछाल देखने को मिल रहा है। उन्होंने कहा आम जनता के जेब में पैसे डालने पर ही बाजार में पैसे आएंगे।
तेलंगाना मुठभेड़ पर बघेल ने कहा कि हमारे देश में न्यायालयीन प्रक्रिया वर्षों तक चलती है, इसमें तेजी आनी चाहिए, जिससे त्वरित न्याय मिल सके। एनआरसी के मुद्दे पर बघेल ने अपनी बात रखते हुए कहा कि ये सिर्फ सीमावर्ती राज्यों की समस्या है, पूरे देश की नहीं।

अब पलायन वाला दौर ख़त्म
छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि, दुनिया में ऐसे उदाहरण कम होंगे कि ग्रामीण व्यवस्था के सुधार में खेती छोड़ चुके किसान हजारों की संख्या में वापस खेतों में लौट आए है। पलायन वाला दौर अब छत्तीसगढ़ में नहीं रहा है, पुनर्वास का यह नया दौर है, जो छत्तीसगढ़ सरकार के प्रति जनता के बढ़ते विश्वास की तस्दीक करता है समिट में देश-विदेश से आए ख्याति प्राप्ति बुद्धिजीवी भी उपस्थित थे। जीएसटी पर राज्यों को मिलने वाले क्षतिपूर्ति अनुदान से सम्बंधित एक प्रश्न के जवाब में मुख्यमंत्री बघेल ने बताया कि, छत्तीसगढ़ में क्षतिपूर्ति की माँग वर्ष 2018-19 में बढ़कर 6500 करोड़ हो जायेगी। केंद्र द्वारा अब तक जीएसटी कंपनसेशन रिलीज नहीं होने से राज्य को राजस्व की बड़ी हानि हो रही है और विकास के कार्य भी प्रभावित हो रहे हैं। क्षतिपूर्ति अनुदान राज्यों को न देना जीएसटी पूर्व संविधान संशोधन अधिनियम का उल्लंघन है।

बेरोजगारी दर में 6 प्रतिशत गिरावट
बघेल ने कहा कि हमारी सरकार 11 माह पुरानी है। लेकिन इतने कम समय में राज्य की फिजा इतनी बदल गई है कि दुनिया और देश में इस समय जो चुनौतियां है उनमें छत्तीसगढ़ अटल अडिग और निरन्तर विकसित अर्थव्यवस्था के रूप में खड़ा रह सका है। मुख्यमंत्री बघेल ने बताया कि 11 महीनों में छत्तीसगढ़ की बेरोजगारी दर में जहां 6 प्रतिशत गिरावट आई है, वही 11 महीनों में ही प्रदेश में रियल सेक्टर में 70 प्रतिशत उछाल/ओटोमोबाइल सेक्टर में 35 प्रतिशत तक बढ़़ोतरी सहित बाजार से गयी रौनक वापस लौट आई है। यह सब चमत्कार नहीं है। हमने गांधी की विचारधारा के मॉडल को अपनाया है। हम नरवा, गरवा, घुरवा, बारी की जिस योजना पर काम कर रहे हैं वो महज कोई सरकारी योजना नहीं है, बल्कि जन विकास का एक वैकल्पिक मॉडल है।

संबंधित पोस्ट

गणतंत्र दिवस : रायपुर में राज्यपाल करेंगी ध्वजारोहण, जगदलपुर जाएंगे CM भूपेश

बजट 2020 के सीएम ने की चर्चा, कृषि एवं जलसंसाधन मंत्री ने दिए प्रस्ताव

नक्सल प्रभावित इलाकों में आदिवासियों पर दर्ज़ 215 प्रकरण हुए वापस

सीएम हाउस में हुई भूपेश कैबिनेट की बैठक

लोकवाणी : स्वाभिमान, अस्मिता और नई ऊर्जा से प्रारंभ हुआ आगे बढ़ने का नया दौर

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बॉयो-एथेनॉल के लिए नीति आयोग को लिखा पत्र

छत्तीसगढ़ में आज है अन्न दान का महापर्व छेरछेरा

छत्तीसगढ़ खेल विकास प्राधिकरण का गठन

भक्त राजिम माता जयंती पर सीएम की सौगात, मेला स्थल में बनेगा राजिम माता भवन

सीएम भूपेश के निर्देश – वेंटिलेटर, आई.सी.यू. और ऑपरेशन थेएटर रखें अपडेट

नाचा नाटक खेल और चित्रकला से सजेगा “युवा महोत्सव 2020”

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के लिए नाम निर्देशन का सिलसिला जारी