राष्ट्रपति:सरकार ने राष्ट्रनिर्माण के लिए बढ़ाए कदम

मोदी सरकार दुसरे कार्यकाल के एजेंडे को रखा देश के सामने

नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गुरुवार को संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित किया। उन्होंने अपने संबोधन में मोदी सरकार दुसरे कार्यकाल के एजेंडे को देश के सामने रखा और सरकार किस तरह न्यू इंडिया की नींव रख रही है इसे भी बताया। इस दौरान सदन में लोकसभा, राज्यसभा के सभी सांसद मौजूद रहे।

                     प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला ने राष्ट्रपति का स्वागत किया। राष्ट्रपति ने अपने भाषण में विकास, नीति समेत कई बड़े मुद्दों का जिक्र किया। इसी के साथ उन्होंने नई सरकार को भी बधाई दी। अपने अभिभाषण में राष्ट्रपति ने मुख्य तौर पर 25 बिंदुओं पर फोकस किया। जिसमें उन्होने सबसे पहले 61 करोड़ से अधिक मतदाताओं ने लोकतंत्र का सम्मान किया है। राष्ट्रपति ने कहा कि भरी गर्मी में भी मतदाताओं ने वोट दिया और महिलाओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया।

                  लोकसभा के नए स्पीकर को उनके चयन, चुनाव आयोग को सफलतापूर्वक चुनाव कराने के लिए बधाई दी। इस लोकसभा में लगभग आधे सांसद पहली बार निर्वाचित हुए हैं। लोकसभा के इतिहास में सबसे बड़ी संख्या में 78 महिला सांसदों का चुना जाना नए भारत की तस्वीर प्रस्तुत करता है। सदन में इस बार हर प्रोफेशन के लोग आए हैं। उन्होने कहा कि मेरी सरकार बिना किसी भेदभाव के विकास कार्यों को आगे बढ़ा रही है। देश के लोगों ने लंबे समय तक मूलभूत सुविधाओं के लिए इंतजार किया लेकिन अब स्थिति बदली है। 2014 से पहले देश में निराशा का माहौल था, लेकिन अब हमारी सरकार ने राष्ट्रनिर्माण के लिए कदम बढ़ाएं हैं। मेरी सरकार सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास की नीति के साथ आगे बढ़ रही है।

राष्ट्रपति ने कहा कि सरकार 30 मई को शपथ लेने के तुरंत बाद नए भारत के निर्माण में जुट गई है। ऐसे भारत में युवाओं के सपने पूरे होंगे, उद्योग को ऊंचाईयां मिलेंगी, 21वीं सदी के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किया जाएगा। 21 दिन के कार्यकाल में ही मेरी सरकार ने किसान, जवान के लिए बड़े फैसले किए हैं। इसके साथ ही उन्होने सभी सांसदों से कहा कि सभी एकजुट होकर गांधी जी के मूलमंत्र पर चलकर सभी काम करे। ताकि अपने मतदाताओं के आकांक्षाओं को पुरा कर सके। उन्होने सभी सासदों को निश्ठापूर्वक अपने कर्तव्यों को निभाने की सलाह दी।