मेरठ के बाहर से ही लौटाए गए राहुल-प्रियंका

नहीं मिल पाए हिंसा पीड़ितों से राहुल-प्रियंका

मेरठ (IANS)| नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के खिलाफ मेरठ में पिछले सप्ताह हुए हिंसक विरोध प्रदर्शन में मारे गए लोगों के परिजनों से मिलने जा रहे कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा को पुलिस ने मंगलवार को शहर में प्रवेश करने से पहले रोक दिया, जिसके बाद वे वापस दिल्ली लौट गए हैं। कांग्रेस नेताओं ने आरोप लगाया कि राहुल और प्रियंका दोनों को मेरठ के बाहर परतापुर से वापस लौटा दिया गया। दोनों नेताओं के मेरठ में मृतकों के परिजनों से मिलने के लिए दिल्ली से रवाना होने की खबर मिलते ही भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया। राहुल गांधी ने संवाददाताओं से कहा कि उन्हें कोई आदेश नहीं दिखाया गया, लेकिन उन्हें वापस जाने के लिए बोल दिया गया। उन्होंने कहा, “हमने पुलिस से कहा कि हम सिर्फ तीन लोग जाएंगे, लेकिन वे राजी नहीं हुए।” राहुल और प्रियंका के साथ पूर्व सांसद प्रमोद तिवारी भी थे।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) अजय साहनी ने कहा कि कांग्रेस नेताओं को जिले में लागू निषेधाज्ञा के कागज दिखाए गए और ‘वे खुद लौट गए।’ कांग्रेस नेता इमरान मसूद ने पीड़ित के परिजनों से कथित तौर पर फोन पर राहुल, प्रियंका की बात कराई। एसएसपी ने कहा कि कांग्रेस नेताओं के मेरठ दौरे से धारा 144 का उल्लंघन हो जाता और तनाव उत्पन्न होता।

संबंधित पोस्ट

सरकारी पैनल करेगी राजीव गांधी फाउंडेशन की जांच,बनाई गई समिति

मोदी से राहुल ने पूछा,बताएं चीनी फौज भारतीय जमीन से कब जाएगी

असली अनामिका बेरोजगार, उप्र सरकार उससे माफी मांगे : प्रियंका

राहुल ने पर्यावरण दिवस पर संत कबीर के दोहे साझा किए

लॉकडाउन से कोई नतीजा नहीं, बल्कि जनता को हुआ भारी नुकसान : राहुल गांधी

सोनिया-राहुल की मौजूदगी में लांच हुई “राजीव गांधी किसान न्याय योजना”

सीधे गरीबों की जेब में दें पैसा, पैकेज पर दुबारा विचार करें

राहुल गांधी ने समर्थकों की उम्मीदों पर फेरा पानी, वापसी न करने के दिए संकेत

राहुल गांधी ने पेट्रोल, डीजल से कर हटाने की मांग की

प्रवासी मुफ्त में यात्रा क्यों नहीं कर सकते : प्रियंका गांधी

कांग्रेस और भाजपा के बीच प्रवासी मजदूरों के किराए को लेकर छिड़ी जंग

आरोग्य सेतु एप्प आउटसोर्स निगरानी प्रणाली, डेटा व नीजता कितना सुरक्षित