रंजन गोगोई ने की CJI के लिए शरद अरविंद बोबडे की सिफारिश

भारत के अलगे मुख्य न्यायाधीश बनाने सरकार को लिखा पत्र

नई दिल्ली। भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने सरकार को पत्र लिखकर जस्टिस शरद अरविंद बोबडे को अगले चीफ़ जस्टिस बनाने की सिफारिश की है। न्यायमूर्ति गोगोई ने अपने पत्र में कथित तौर पर सिफारिश करते हुए लिखा है कि सरकार न्यायमूर्ति एसए बोबडे को भारत के अगले मुख्य न्यायाधीश के रूप में नियुक्त कर सकती है।

जस्टिस बोबड़े, जस्टिस गोगोई के बाद वरिष्ठता में नंबर 2 हैं। जस्टिस बोबड़े मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रहे हैं। वह 23 अप्रैल 2021 को सेवानिवृत्त होने वाले हैं। 24 अप्रैल 1956 को नागपुर, महाराष्ट्र में जन्मे, जस्टिस बोबडे ने नागपुर विश्वविद्यालय में अध्ययन किया। वे 2000 में बंबई उच्च न्यायालय में अतिरिक्त न्यायाधीश के रूप में शामिल हुए। 2012 में, वह मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश बने। उन्हें अप्रैल, 2013 में सर्वोच्च न्यायालय में पदोन्नत किया गया था। वह अयोध्या मंदिर-मस्जिद विवाद, बीसीसीआई मामले और पटाखों के खिलाफ याचिका सहित उच्चतम न्यायालय के समक्ष शीर्ष मामलों में शामिल रहे हैं।

3 अक्टूबर 2018 को मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ लेने वाले जस्टिस गोगोई 17 नवंबर को सेवानिवृत्त होंगे। आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि चीफ जस्टिस अपने रिटायरमेंट से एक महीने पहले अपने उत्तराधिकारी के रूप में अगले वरिष्ठ जज के नाम की सिफारिश करने के लिए सम्मेलन में गए हैं। 18 नवंबर को मुख्य न्यायाधीश के रूप में शपथ लेने वाले जस्टिस बोबडे का कार्यकाल लगभग 18 महीने का होगा।