Big News : SC से राहुल को राहत, माफ़ी नामा हुआ मंज़ूर

"चौकीदार चोर है" बयान पर उठा सियासी बवंडर खत्म

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने आज कांग्रेस नेता राहुल गांधी के खिलाफ “चौकीदार चोर है” टिप्पणी मामलें पर दायर मानहानि का मुकदमा खत्म कर दिया। भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ ने कहा कि अदालत ने मामले में राहुल गांधी की माफी स्वीकार कर ली और उन्हें भविष्य की टिप्पणी के बारे में अधिक सावधान रहने की चेतावनी दी है। राहुल ने 10 अप्रैल को यह टिप्पणी की थी, जिस दिन शीर्ष अदालत ने राफेल मामले में पिछले साल 14 दिसंबर के फैसले के खिलाफ समीक्षा याचिकाओं का समर्थन करने के लिए कुछ दस्तावेजों की स्वीकार्यता पर केंद्र की प्रारंभिक आपत्तियों को खारिज कर दिया था।

गांधी की ओर से कोर्ट में पेश वरिष्ठ अधिवक्ता एएम सिंघवी ने पीठ से कहा था कि कांग्रेस नेता ने शीर्ष अदालत में गलत आरोप पर खेद व्यक्त किया। मीनाक्षी लेखी की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता मुकुल रोहतगी ने प्रस्तुत किया था कि गांधी द्वारा दी गई माफी को खारिज कर दिया जाना चाहिए और कानून के अनुसार उनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। मुकुल रोहतगी ने यह भी तर्क दिया कि अदालत को राहुल गांधी से अपनी टिप्पणी के लिए जनता से माफी मांगने के लिए कहना चाहिए।
गौरतलब है कि राहुल गांधी ने अपना माफ़ीनामा दाखिल करने के बाद भी 8 मई को राफेल फैसले में अपनी “चौकीदार चोर है” टिप्पणी की थी। जिसके बाद इस टिपण्णी के लिए उन्होंने शीर्ष अदालत में बिना शर्त माफी मांगी थी और कहा था कि वह अदालत को “सर्वोच्च स्थान और सम्मान” में रखते हैं और इसके लिए कोई भी जिम्मेदार नहीं है।