जम्मू-कश्मीर में पाबंदियों की सप्ताह भर के अंदर समीक्षा की जाए : सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्रशासित प्रदेश जम्मू एवं कश्मीर के प्रशासन को शुक्रवार को निर्देश दिया है कि वह एक सप्ताह के अंदर सभी पाबंदियों की समीक्षा करें और उसे सार्वजनिक रूप से प्रकाशित करे, ताकि लोग उसे अदालत में उठा सकें। घाटी में अपने कदमों के पक्ष समर्थन प्राप्त करने की कोशिश में जुटी केंद्र सरकार को कोर्ट के इस आदेश से झटका लगा है।

इसके साथ ही कोर्ट ने इंटरनेट सेवा पर लगाए गए प्रतिबंध को संविधान के खिलाफ बताया। न्यायाधीश एन. वी. रमना की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा, “कोर्ट (जम्मू एवं कश्मीर में प्रतिबंधों के संबंध में) राजनीतिक औचित्य में नहीं जाएगी।”

कोर्ट ने कहा कि उसकी सीमा नागरिकों की सुरक्षा और उनकी स्वतंत्रता के बीच संतुलन बिठाने तक है, जैसा कि इस मामले में उनकी सुरक्षा और स्वतंत्रता के बीच टकराव की स्थिति है।

सुप्रीम कोर्ट ने अपने निर्देश में इस बात का जिक्र किया कि उपकरण के तौर पर इंटरनेट का इस्तेमाल संवैधानिक अधिकार है। यह अधिकार उन्हें बोलने और अभिव्यक्ति की आजादी के तहत मिला है और साथ ही यह लोगों को उनके पेशे में आगे बढ़ने में मदद करता है।

वहीं सीआरपीसी की धारा 144 पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इसका इस्तेमाल स्वतंत्रता पर लगाम लगाने के लिए नहीं किया जा सकता है और इसका इस्तेमाल वहीं किया जा सकता है, जहां हिसा और सार्वजनिक सुरक्षा पर खतरे की आशंका हो।

संबंधित पोस्ट

जम्मू कश्मीर : संघर्ष विराम के उल्लंघन में सैनिक शहीद, 2 घायल

जम्मू-कश्मीर में लश्कर-ए-तैयबा के 3 आतंकवादी ढेर

प्रवासी श्रमिकों के लिए रोजगार योजनाएं बनाए : सुप्रीम कोर्ट

ऐसी व्यवस्था बनाएं कि कोई ठेकेदार बच्चों को काम पर न रख सकें : सुप्रीम कोर्ट

कश्मीर में जैश के शीर्ष कमांडर सहित 3 आंतकी ढेर

कश्मीर : बड़गाम जिले में लश्कर का आतंकी समूह पकड़ाया, 4 गिरफ्तार

ईरानी महावाणिज्यदूतावास की याचिका सुप्रीम कोर्ट में खारिज

सुप्रीम कोर्ट ने CAA के खिलाफ दायर नई याचिकाओं पर केंद्र को भेजा नोटिस

महाप्रबंधक रहे अशोक चतुर्वेदी को बड़ी राहत, सुप्रीम कोर्ट ने FIR पर दिया स्थगन

व्हाट्सएप कॉल पर सुनवाई वर्चुअल कोर्ट में मुश्किल : सुप्रीम कोर्ट

शीर्ष अदालत ने बंद के दौरान पूर्ण वेतन संबंधी सर्कुलर पर रोक लगाई

सुप्रीम कोर्ट की गर्मी की छुट्टियां रद्द, 19 जून तक जारी रहेगा काम