एमपीपीएससी में भील जनजाति के सवाल पर बवाल, लक्ष्मण बोले- माफी मांगे सीएम

भोपाल। मध्य प्रदेश में लोक सेवा आयोग के प्रश्नपत्र में भील जनजाति को लेकर पूछे गए सवालों के बाद जमकर बवाल मच गया है। जाति को लेकर पूछे गए ऐसे सवाल को लेकर सवाल खड़े हो रहे है। भाजपा विधायक और आरटीआई एक्टिविस्टों के बाद अब चाचौड़ा से कांग्रेस विधायक और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के भाई लक्ष्मण सिंह ने भी इस पर कड़ी आपत्ति जताई है। उन्होंने इस तरह के सवाल पूछने को लेकर सीएम कमलनाथ से माफी मांगने की मांग की है। वही भील समाज में भी जमकर आक्रोश है।

दरअसल, एमपीपीएससी में जाति को लेकर पूछे गए सवाल पर  लक्ष्मण सिंह भी भड़क गए है। उन्होंने ट्वीट कर सीएम कमलनाथ को माफी मांगने की बात कही है। लक्ष्मण ने ट्वीट कर लिखा है, ”भील समाज पर प्रदेश शासन के प्रकाशन पर अशोभनीय टिप्पणी से आहत हूं। अधिकारी को तो सजा मिलना ही चाहिए, परन्तु मुख्यमंत्री को भी सदन में खेद व्यक्त करना चाहिए,आखिर वह प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं। इससे अच्छा संदेश जाएगा।”

यह पहला मौका नहै है जब लक्ष्मण सिंह ने अपनी ही सरकार को घेरा हो है या सवाल खड़े किए हो, इसके पहले भी वे कर्जमाफी, संगठन जैसे मुद्दों को लेकर खुलकर विरोध कर चुके है।

आरटीआई एक्टविस्ट भी जता चुके है आपत्ति

वरिष्ठ आरटीआई एक्टिविस्ट अजय दुबे प्रश्नपत्र की कॉपी शेयर करते हुए फसेबुक पर लिखा एमपीपीएससी ने आज परीक्षा में भील समाज पर आपत्तिजनक प्रश्न पूछे। आजादी के 72 साल बाद भी पूछा जा रहा है कि वो अपराध क्यो करते हैं?

साहूकारी के शोषण के अलावा अनैतिक कार्यों को गरीबी का कारण बताया है।

वहीं, व्यापम घोटाले के व्हिसिल ब्लोअर डॉ आनद राय ने फेसबुक पर लिखा ‘लोक सेवा आयोग की सचिव मनुवादी गढ़वाली ब्राह्मण रेणु पंत को अबिलम्ब बर्खास्त कर अनिवार्य सेवा निवृत्ति दी जाए, आदिवासियों के अपमान के लिए संघी भास्कर चौबे और रेणु पंत जिम्मेदार हैं, तत्काल एट्रोसिटी एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज हो, सभी आदिवासी चिंतक कल लोकसेवा आयोग के सामने अपनी पारम्परिक बेषभूषा में आकर लोकसेवा आयोग के मनुवादी अध्यक्ष को आदिवासी समाज की ताकत का अहसास कराएं।

भाजपा विधायक ने की तत्काल बर्खास्त की मांग

भील समाज से आने वाले पंधाना के विधायक राम दांगोरे ने एमपीपीएससी में इसे लेकर शिकायत करने की बात कही है। उन्होंने भील समाज के लोगों के साथ काला कपड़ा लहराकर सूबे की कमलनाथ सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। बीजेपी विधायक दांगोरे ने मांग की है कि जिसने भी यह प्रश्नपत्र तैयार किया है उसे तत्काल बर्खास्त किया जाए और एट्रोसिटी ऐक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया जाए। उन्होंने कहा कि भील समाज ने देश की आजादी की लड़ाई में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और प्रश्नपत्र में आपत्तिजनक बातें लिखी गई हैं।

ये है पूरा मामला

राज्य सेवा प्रारम्भिक परीक्षा में एक प्रश्न में भील जनजाति को शराब में डूबी हुई जनजाति भी बताया है। इसमें उल्लेख किया गया है कि भीलों की आपराधिक प्रवृत्ति का एक प्रमुख कारण यह है कि यह सामान्य आय से अपनी देनदारियां पूरी नहीं कर पाते। फलतः धन उपार्जन की आशा में गैर वैधानिक तथा अनैतिक कामों में भी संलिप्त हो जाते हैं।इस प्रश्न पत्र के सवालों को लेकर भील समाज में खासी नाराजगी पसरी हुई है। खंडवा में भील समाज के लोगों ने इसे लेकर अपनी नाराजगी दर्ज कराई।

संबंधित पोस्ट

मध्यप्रदेश के इंदौर में कोरोना से मरे मरीज की जेब कटी, मोबाइल चोरी

मप्र : सिंधिया के प्रभाव वाले जिलों की कांग्रेस कार्यकारिणी भंग

मप्र : एमसीयू के कुलपति का प्रभार संजय द्विवेदी को

मप्र : ऑक्सीजन थेरेपी से कोरोना मरीजों का सफल उपचार संभव- डॉ. नरोत्तम मिश्रा

LockDown Impact : भोपाल में बंदी के नियमों को तोड़ने पर 2969 मामले दर्ज

शिवराज मंत्रिमंडल का गठन, राजभवन में 5 मंत्रियों ने ली शपथ

अति विश्वास और अति-आत्मविश्वास के बीच कोरोना ने इंदौर में पैर पसारे

Corona Effect : मध्यप्रदेश में पैर पसार रहा कोविड-19

मप्र : शिवराज के हाथों फिर कमान ?

मप्र : विधायकों के इस्तीफे पर ‘एक दिन में’ लिया जाए फैसला : एससी

मप्र : राज्यपाल के दूसरे पत्र के बाद भी फ्लोर टेस्ट पर संशय

मध्यप्रदेश में फ्लोर टेस्ट की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज