एससी ने निर्भया के दोषियों की क्यूरेटिव पिटिशन को निराधार बताया, खारिज

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को निर्भया सामूहिक दुष्कर्म और हत्या मामले के दोषियों विनय कुमार और मुकेश द्वारा दायर की गई उपचारात्मक (क्यूरेटिव) याचिकाओं को खारिज कर दिया। इन दोषियों ने ट्रायल कोर्ट द्वारा दी गई मौत की सजा पर सवाल उठाते हुए याचिकाएं दायर की थी। ट्रायल कोर्ट द्वारा दी गई मौत की सजा को बाद में हाईकोर्ट और शीर्ष अदालत ने भी बरकरार रखा था।

न्यायमूर्ति एन. वी. रमना, न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा, न्यायमूर्ति आर. एफ. नरीमन, न्यायमूर्ति आर. भानुमति और न्यायमूर्ति अशोक भूषण की पांच सदस्यीय पीठ ने सर्वसम्मति से कहा कि दोषियों की उपाचारात्मक याचिकाओं का कोई आधार नहीं है।

न्यायमूर्ति रमना की अध्यक्षता वाली पीठ द्वारा दोषियों के वकीलों की उपस्थिति के बिना चैंबर में उपचारात्मक याचिकाओं पर सुनवाई की। दरअसल पुनर्विचार व उपचारात्मक याचिकाओं की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट के चैंबर में ही होती है।

पांच न्यायाधीशों की पीठ ने मौत की सजा पर अमल करने के लिए भी दोषियों की याचिका को खारिज कर दिया। अदालत ने कहा, “मौखिक सुनवाई के लिए आवेदन खारिज किए जाते हैं। मृत्युदंड की सजा पर रोक के आवेदन को भी खारिज किया जाता है।”

संबंधित पोस्ट

प्रवासी श्रमिकों के लिए रोजगार योजनाएं बनाए : सुप्रीम कोर्ट

ऐसी व्यवस्था बनाएं कि कोई ठेकेदार बच्चों को काम पर न रख सकें : सुप्रीम कोर्ट

ईरानी महावाणिज्यदूतावास की याचिका सुप्रीम कोर्ट में खारिज

सुप्रीम कोर्ट ने CAA के खिलाफ दायर नई याचिकाओं पर केंद्र को भेजा नोटिस

महाप्रबंधक रहे अशोक चतुर्वेदी को बड़ी राहत, सुप्रीम कोर्ट ने FIR पर दिया स्थगन

व्हाट्सएप कॉल पर सुनवाई वर्चुअल कोर्ट में मुश्किल : सुप्रीम कोर्ट

शीर्ष अदालत ने बंद के दौरान पूर्ण वेतन संबंधी सर्कुलर पर रोक लगाई

सुप्रीम कोर्ट की गर्मी की छुट्टियां रद्द, 19 जून तक जारी रहेगा काम

सुप्रीम कोर्ट ने मजदूरों के पलायन पर कहा, अदालत कैसे करे निगरानी

एससी में बनेगी एकल पीठ, जमानत व स्थानांतरण मामलों की होगी सुनवाई

जम्मू-कश्मीर में 4जी सेवा बहाली से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

शराब बिक्री पर रोक से सुप्रीम कोर्ट का इनकार, ऑनलाइन सप्लाई का दिया सुझाव