डीएनए टेस्ट के बाद बेटे को होगी बलात्कारी पिता की पहचान

शाहजहांपुर (उप्र)| यहां दो आदमियों के डीएनए टेस्ट से एक युवक को आखिरकार अपने असली बलात्कारी पिता का पता लग जाएगा, जिन्होंने युवक की मां के साथ उस दौरान निरंतर दुष्कर्म किया था, जब वह महज 12 साल की थीं। शाहजहांपुर के पुलिस अधीक्षक (सिटी) संजय कुमार ने कहा कि पीड़िता की शिकायत के आधार पर दोनों आरोपियों के खिलाफ सदर बाजार पुलिस स्टेशन में सामूहिक दुष्कर्म का मामला दर्ज किया गया है।

कुमार ने कहा कि पुलिस मामले की जांच कर रही है और अब लड़के का डीएनए टेस्ट कराया जाएगा।

पुलिस द्वारा शिकायत दर्ज करने से इनकार करने के बाद इस महिला ने अदालत का रूख किया था।

खबरों के अनुसार, पीड़िता जब महज 12 साल की थी उस वक्त नाकी हसन और गुड्ड इन दो भाइयों ने मिलकर उसके साथ कई बार दुष्कर्म किया था।

अपनी बहन और जीजा के साथ रह रही पीड़िता 13 साल की उम्र में गर्भवती हो गई और बाद में उसने एक बच्चे को जन्म दिया।

बच्चे को शाहाबाद पुलिस थानान्तर्गत उसकी मां के पैतृक गांव उधमपुर से ताल्लुक रखने वाले एक शख्स के साथ भेज दिया गया था, जबकि वह रामपुर में ही अपनी बहन और अपने जीजा के यहां रहने लगी थी।

एसपी ने कहा कि पीड़िता के जीजा ने उसकी शादी गाजीपुर जिले के एक आदमी से कर दी, लेकिन शादी के 10 साल बाद जब उसके पति को पता चला कि उसकी पत्नी के साथ दुष्कर्म की घटना हुई है, तो उसने उसे तलाक दे दिया और लड़की फिर उधमपुर लौट आई।

इस बीच, उसका बेटा अब तक बड़ा हो चुका था और अपने माता-पिता के बारे में जानने की जिद करने लगा था।

इसके बाद लड़के के साथ उसकी मां की हुई मुलाकात हुई, उसने अपनी मां के साथ हुई घटना के बारे में जाना और अपनी मां को न्याय दिलाने का फैसला किया।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि चूंकि पीड़िता ने घटना के दौरान पुलिस में कोई शिकायत दर्ज नहीं की थी इसलिए अभी आरोपी का पता लगाने की कोशिश की जा रही है।

–आईएएनएस

शेयर
प्रकाशित
Nirmalkumar Sahu

This website uses cookies.