बायोलॉजी को रोचक बनाने के लिए स्पेनिश टीचर ने अपनाया अनोखा तरीका

सोशल मीडिया में तस्वीरें हुईं वायरल, चर्चा का बाजार गर्म

नई दिल्ली। स्कूल में ऊबाउ विषय को रोचक बनाकर बच्चों में उस विषय को अधिक जानने की इच्छा लाने के लिए स्पेनिश टीचर ने कुछ ऐसा तरीका अपनाया जिसकी तस्वीरों से अब सोशल मीडिया में चर्चा का बाजार गर्म है। तस्वीरों से पता चलता है कि उक्त शिक्षिका ने बॉडी सूट पहना हुआ है जिस पर मानव शरीर की रचना हुई है। जिसे बच्चे को आसानी से सभी चीजें समझ आ सकें। बायोलॉजी की पढ़ाई को मजेदार बनाने के इस टीचर की कोशिशों की तस्वीरें सोशल मीडिया में वायरल हो रही हैं जिसपर लोग जमकर प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं।

न्यूयॉर्क पोस्ट के मुताबिक वेरोनिका ड्यूक के पास 15 वर्षों से अधिक का शिक्षण अनुभव है और वर्तमान में वह विज्ञान, अंग्रेजी, कला, सामाजिक अध्ययन और स्पेनिश जैसे विभिन्न विषय तीसरी कक्षा के बच्चों को पढ़ाती हैं।

43 वर्षीय वेरोनिका ने एक वेबसाइट से बात करते हुए कहा कि बच्चों को इमेज या बोर्ड पर पिक्चर बनाकर समझाने में कई बार मुश्किल होती है। ऐसा करने पर कुछ बच्चे समझ जाते हैं लेकिन कुछ नहीं समझ पाते। इसलिए मुझे एनाटॉमी सूट बनवाने का आइडिया आया और मैंने मानव शरीर रचना वाला एक बॉडीसूट बनवाया। उन्होंने कहा कि मुझे पता है कि इतने छोटे बच्चों के लिए यह समझना मुश्किल है लेकिन मुझे लगा कि एक बार कोशिश करनी चाहिए।

वेरोनिका के पति ने भी इसमें उसका समर्थन किया और जिस दिन वह एनाटॉमी सूट पहन कर बच्चों को पढ़ाने गईं। उस दिन उसके पति ने उसकी कुछ तस्वीरें खींच कर उन्हें ट्विटर पर शेयर कर दिया। ट्विटर पर शेयर करने के बाद यह तस्वीरें वायरल हो गईं, जिसके बाद इसे 13,000 से अधिक बार रीट्वीट किया गया और 66,000 लोगों ने इस पोस्ट को लाइक किया। वहीं कई लोगों ने इस पर सराहनीय टिप्पणियां भी कीं।

ट्वीट करते हुए वेरोनिका के पति माइक मोराटिनोस ने लिखा कि मैं अपनी पत्नी पर बहुत गर्व महसूस करता हूं क्योंकि उसके पास बहुत सारे आइडिया हैं। आज उसने मानव शरीर के बारे में छात्रों को यह सूट पहन कर समझाया, और इसे देख कर बच्चों ने कहा कि बहुत खूब वेरोनिका।

हालांकि, यह पहली बार नहीं है जब वेरोनिका ने इस तरह से किसी आइडिया के साथ बच्चों को पढ़ाया हो। उन्होंने बच्चों को इतिहास के चैप्टर समझाने के लिए महान व्यक्तियों की वेशभूषा धारण की है और व्याकरण समझाने के लिए कार्डबोर्ड का प्रयोग किया है।

वह मानती हैं कि इससे टीचर्स को लेकर लोगों की सोच में बदलाव आएगा, जिन्हें लगता है कि शिक्षक बोरिंग और आलसी होते हैं।