सीएए, एनपीआर पर आदेश पारित करने से सुप्रीम कोर्ट का इंकार

मुस्लिम लीग ने सीएए प्रक्रिया पर कुछ महीनों के लिए रोक लगाने की मांग की

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) के क्रियान्वयन के खिलाफ कोई भी आदेश पारित करने से फिलहाल इंकार कर दिया। शीर्ष अदालत ने जवाबी हलफनामा दाखिल करने के लिए केंद्र सरकार को चार सप्ताह का समय दिया है।

प्रधान न्यायाधीश एस.ए. बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ ने अगली सुनवाई पर इस मुद्दे के लिए संविधान पीठ का गठन करने के भी संकेत दिए।

सीएए के खिलाफ इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग की तरफ से वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने कोर्ट से सीएए प्रक्रिया पर कुछ महीनों के लिए रोक लगाने की मांग की।

महाधिवक्ता के.के. वेणुगोपाल ने हालांकि इसका विरोध करते हुए तर्क दिया कि यह स्थगन के समान है।

वेणुगोपाल ने कहा, “यह कानून के क्रियान्वयन पर स्थगन देने समान ही है।”

इस पर प्रधान न्यायाधीश ने कहा, “हम आज ऐसा कोई आदेश जारी नहीं करेंगे।”

(आईएएनएस)

संबंधित पोस्ट

मप्र : राज्य में अभी नहीं होगा एनपीआर लागू

निर्भया मामले की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट की जज हुईं बेहोश

दूरसंचार कंपनियों को सुप्रीम कोर्ट की लगी फटकार

‘आपराधिक मामलों वालों प्रत्याशियों की जानकारी अपनी साइटों में डालें’

केंद्र की याचिका पर सुनवाई नहीं करेगा सुप्रीम कोर्ट

4 माह के बच्चे की मौत पर भड़का सुप्रीम कोर्ट

शाहीन बाग पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा, अनिश्चितकाल तक विरोध प्रदर्शन नहीं हो सकता

एससी/एसटी संशोधन अधिनियम की संवैधानिक वैधता पर सुप्रीम कोर्ट की मुहर

निर्भया केस : चारों दोषियों का डेथ वारंट जारी करने से इनकार

निर्भया के दोषियों को अलग-अलग फांसी देने की याचिका पर सुनवाई कल

मोदी के खिलाफ 2002 के दंगों की याचिका कई बार स्थगित की गई : सुप्रीम कोर्ट

निर्भया हत्याकांड : फांसी से बचने को दोषी लगा रहे एड़ी चोटी का दम