सीएए, एनपीआर पर आदेश पारित करने से सुप्रीम कोर्ट का इंकार

मुस्लिम लीग ने सीएए प्रक्रिया पर कुछ महीनों के लिए रोक लगाने की मांग की

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) के क्रियान्वयन के खिलाफ कोई भी आदेश पारित करने से फिलहाल इंकार कर दिया। शीर्ष अदालत ने जवाबी हलफनामा दाखिल करने के लिए केंद्र सरकार को चार सप्ताह का समय दिया है।

प्रधान न्यायाधीश एस.ए. बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ ने अगली सुनवाई पर इस मुद्दे के लिए संविधान पीठ का गठन करने के भी संकेत दिए।

सीएए के खिलाफ इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग की तरफ से वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने कोर्ट से सीएए प्रक्रिया पर कुछ महीनों के लिए रोक लगाने की मांग की।

महाधिवक्ता के.के. वेणुगोपाल ने हालांकि इसका विरोध करते हुए तर्क दिया कि यह स्थगन के समान है।

वेणुगोपाल ने कहा, “यह कानून के क्रियान्वयन पर स्थगन देने समान ही है।”

इस पर प्रधान न्यायाधीश ने कहा, “हम आज ऐसा कोई आदेश जारी नहीं करेंगे।”

(आईएएनएस)

संबंधित पोस्ट

सुदर्शन टीवी का मुख्य उद्देश्य मुस्लिम समुदाय को कलंकित करने का : सुप्रीम कोर्ट 

मौजूदा और पूर्व सांसदों व विधायकों के खिलाफ साढ़े 4 हजार मामले लंबित : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, एमसीआई के पास आरक्षण देने की शक्ति नहीं

सुप्रीम कोर्ट ने अवमानना मामले में प्रशांत भूषण को 1 रुपया जुर्माना किया

परीक्षाओं को रोककर विद्यार्थियों का अहित तो नहीं कर रहे ?

सुप्रीम कोर्ट ने सरकारी कर्मी को 13 साल बाद दिलाई पेंशन

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, प्रशांत भूषण मामले को उपयुक्त पीठ को सौंपा जाएगा

सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत भूषण को अवमानना का दोषी माना, सजा पर फैसला बाकी

प्रवासी श्रमिकों के लिए रोजगार योजनाएं बनाए : सुप्रीम कोर्ट

ऐसी व्यवस्था बनाएं कि कोई ठेकेदार बच्चों को काम पर न रख सकें : सुप्रीम कोर्ट

ईरानी महावाणिज्यदूतावास की याचिका सुप्रीम कोर्ट में खारिज

सुप्रीम कोर्ट ने CAA के खिलाफ दायर नई याचिकाओं पर केंद्र को भेजा नोटिस