सुप्रीम कोर्ट हिंसा रुकने के बाद ही सीएए की वैधता तय करेगा

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को कहा कि वह हिंसा रुकने के बाद ही नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) की वैधता पर सवाल करने वाली याचिकाओं पर सुनवाई करेगा। प्रधान न्यायाधीश एस.ए.बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि प्रदर्शन के दौरान पहले ही बहुत ज्यादा हिंसा हुई है। इस पीठ में न्यायमूर्ति बी.आर. गवई व सूर्यकांत शामिल हैं।

प्रधान न्यायाधीश ने कहा कि देश पहले से ही कठिन समय से गुजर रहा है और शांति बहाली के लिए प्रयास होना चाहिए और मामले में इस तरह की याचिकाएं मदद नहीं करेंगी।

अदालत की यह टिप्पणी वकील विनीत ढांढा द्वारा दायर याचिका पर आई है, जिसमें उन्होंने सीएए को संवैधानिक घोषित करने व सभी राज्यों को इसे क्रियान्वित करने के लिए कोर्ट से निर्देश देने की मांग की गई है।

ढांढा ने सीएए की संवैधानिकता की रक्षा के लिए शीर्ष कोर्ट का रुख किया और साथ ही कार्यकर्ताओं, छात्रों, मीडिया हाउसों के खिलाफ झूठी अफवाह फैलाने के लिए कार्रवाई की मांग की है।

संबंधित पोस्ट

भारत हिंदू राष्ट्र होता तो सीएए की जरूरत नहीं पड़ती : हिंदू महासभा

इलेक्टोरल बांड स्कीम पर तत्काल रोक से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

केरल मंत्रिमंडल का सीएए के खिलाफ सख्त रूख

मुशर्रफ की मुश्किलें बढ़ीं, मौत की सजा के खिलाफ सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

कलबुर्गी हत्या मामले की सुप्रीम कोर्ट ने बंद करायी निगरानी

राजद्रोह मामले में सुप्रीम कोर्ट पहुंचे मुशर्रफ

एससी ने निर्भया के दोषियों की क्यूरेटिव पिटिशन को निराधार बताया, खारिज

वाडिया ने रतन टाटा के खिलाफ अवमानना का मामला लिया वापस

सीएए के खिलाफ रणनीति बनाएंगे विपक्ष दल

सीएए पर अफवाहों को हवा दे रहे कुछ राजनीतिक दल : मोदी

देश के मुसलमानों के लिए हिन्दुस्तान से सुरक्षित जगह कोई नहीं : नकवी

मिस्त्री को झटका, सुप्रीम कोर्ट ने एनसीएलएटी के आदेश पर लगाई रोक