एफआईआर के खिलाफ थरूर, सरदेसाई और अन्य ने सुप्रीम कोर्ट रूख किया

 नई दिल्ली | कांग्रेस सांसद शशि थरूर और राजदीप सरदेसाई समेत कई पत्रकारों ने 26 जनवरी को किसान आंदोलन के दौरान हुई हिंसा पर किए ट्वीट के सिलसिले में दर्ज एफआईआर को चुनौती देने के लिए सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है।

दिल्ली पुलिस ने थरूर, सरदेसाई, द कारवां और अन्य के खिलाफ 30 जनवरी को शहर के निवासी चिरंजीव कुमार की शिकायत पर एफआईआर  दर्ज किया था, जिन्होंने दावा किया था कि थरूर और अन्य लोगों ने मध्य दिल्ली के आईटीओ में एक किसान की मौत पर लोगों को ‘गुमराह’ किया, जब हजारों किसानों ने इस क्षेत्र को अपने कब्जे में ले लिया था।

इससे पहले, थरूर और छह पत्रकारों के खिलाफ नोएडा पुलिस ने हिंसा के सिलसिले में देशद्रोह के आरोप में मामला दर्ज किया था।
Jan 26 violence FIRs: Tharoor, Sardesai and others move SC
पत्रकार मृणाल पांडे, जफर आगा, परेश नाथ और अनंत नाथ ने भी गणतंत्र दिवस की हिंसा पर भ्रामक ट्वीट पोस्ट करने के आरोप में उनके खिलाफ दायर मामलों को चुनौती देने के लिए मंगलवार शाम को सुप्रीम कोर्ट का रुख किया।

26 जनवरी को, प्रदर्शनकारी किसानों का एक वर्ग अपनी ट्रैक्टर रैली के लिए सहमत मार्ग से भटक गया और राजधानी के कई हिस्सों में पुलिस के साथ उनकी झड़प हुई।

उधर कांग्रेस सांसद दिग्विजय सिंह ने बुधवार को 26 जनवरी को दिल्ली में हुए किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा को लेकर कांग्रेस सांसद शशि थरूर और कुछ पत्रकारों पर दर्ज मामले को राज्यसभा में उठाया। दिग्विजय सिंह ने कहा, यह व्यक्ति यों का उत्पीड़न है, क्योंकि उन पर राजद्रोह का आरोप लगाया गया है। सिंह ने गृह मंत्री से इस मामले को देखने का अनुरोध किया है।

कांग्रेस सांसद ने आरोप लगाया कि तीन राज्यों में एक ही प्रकार की प्राथमिकी दर्ज की गई है।

–आईएएनएस

संबंधित पोस्ट

सुप्रीम कोर्ट ने वैक्सीन नीति को लेकर केंद्र सरकार से सवाल पूछे

कानून तोड़ने पर ममता के खिलाफ कार्रवाई के लिए स्वतंत्र है सीबीआई : सुप्रीम कोर्ट 

चुनाव बाद हिंसा पर सुप्रीम कोर्ट ने बंगाल और केंद्र से मांगा जवाब

शादी की दावत उड़ाने वाले 69 कोरोना संक्रमित, FIR

सुप्रीम कोर्ट ने चुनाव आयोग से कहा, मीडिया के खिलाफ शिकायत करना बंद करें

‘नाइट कर्फ्यू’ में पूर्व विधायक की पार्टी में भोजपुरी अभिनेत्री ने लगाए ठुमके, FIR दर्ज

सुप्रीम कोर्ट ने कोविड प्रबंधन का लिया संज्ञान, केंद्र की क्या योजना है ?

नीट पीजी परीक्षा स्थगित कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंचे डॉक्टर

वस्तु एवं सेवा कर नागरिक-हितैषी होना चाहिए : सुप्रीम कोर्ट

बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देगी महाराष्ट्र सरकार

जाली दस्तावेज, 92 शिक्षकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज

परमबीर की याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने बॉम्बे हाईकोर्ट भेजा