नागरिक उड्डयन मंत्री बोले, नहीं किया प्राइवेटाइजेशन तो चलना होगा मुश्किल

हरदीप सिंह पुरी बोले - अभी बेचते हैं तो बोली लगाने वाले आएंगे

नई दिल्ली। नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि अगर एयर इंडिया का निजीकरण नहीं किया गया, तो भविष्य में इसे चलाना मुश्किल होगा। उन्होंने लोकसभा में इस मसले पर कहा “अगर एयर इंडिया का निजीकरण नहीं किया जाता है, तो इसके लिए पैसा कहां से आएगा, काम करने के लिए ? पहले हम ऑपरेटिंग घाटे के लिए वित्त मंत्रालय के पास जाते थे। हमें वित्त मंत्रालय से कोई पैसा नहीं मिल रहा है। हमें बैंकों में जाना होगा ” पुरी ने एयर इंडिया के विनिवेश के बारे में पूछे जाने पर बताया। उन्होंने कहा “आज एयर इंडिया की हालत यह है कि यह एक प्रथम श्रेणी की संपत्ति है। अगर हम इसे अभी बेचते हैं तो बोली लगाने वाले आएंगे। यदि हम वैचारिक स्थिति लेते है कि हम इसे बेचना नहीं चाहते हैं तो इसे चलाना मुश्किल होगा।”

पुरी ने कहा कि सरकार एयर इंडिया के कर्मचारियों को उचित सौदा दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा “हम उनसे उचित सौदा पाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। अनुबंध पर 11,000 और 4,000 प्रशिक्षित इंजीनियर शामिल हैं। जो एयरलाइन का अधिग्रहण करेंगे, उन्हें भी इन प्रशिक्षित लोगों की आवश्यकता होगी।” इससे पहले इस साल अगस्त में, नागरिक उड्डयन मंत्री ने कहा था कि सरकार एयर इंडिया के निजीकरण के लिए दृढ़ है और कई लोग इसे खरीदने में रुचि रखते हैं।