बिहार के वाल्मीकिनगर व्याघ्र अभयारण्य में बाघ से लड़ाई में बाघिन की मौत

बेतिया। बिहार के पश्चिम चंपारण जिले के वाल्मीकिनगर व्याघ्र अभयारण्य क्षेत्र (वीटीआर) के वन प्रमंडल एक के रघिया वनक्षेत्र में एक बाघिन का शव मिला है। संभावना व्यक्त की जा रही है कि बाघ से लड़ाई के दौरान बाघिन की मौत हो गई है। वन विभाग के अधिकारियों के मुताबिक, रघिया वनक्षेत्र के घोड़ा घाट गांव के पास जंगल के अंदर बुधवार को मृत बाघिन के शव को बरामद किया गया है। गश्त के दौरान गश्ती दल की नजर इस मृत बाघिन पर पड़ी तब इसकी सूचना वरीय वन अधिकारियों को दी गई।

वन प्रमंडल एक के पदाधिकारी (डीएफओ) अम्बरीश कुमार मल्ल ने गुरुवार को बताया कि बाघिन की मौत बाघ से लड़ाई के दौरान हुई प्रतीत होती है। उन्होंने बताया कि बाघिन के शव पर बाघ के पंजों और नाखून के जख्म के कई निशान मिले हैं। घटनास्थल पर बाघ-बाघिन के बीच हुई लड़ाई के कारण बिखरे हुए पंजों के निशान भी पाए गए हैं।

उन्होंने आगे बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बाघ व बाघिन के बीच भिड़ंत का खुलासा हुआ है। इसके बाद गोर्बद्धना वन क्षेत्र के विश्रामाग्राम परिसर में बाघिन को जला दिया गया। वैसे बाघिन की मौत कैसे हुई है इसका साफ तौर पर खुलासा बिसरा जांच के बाद ही हो पाएगा। बाघिन के बिसरा को जांच के लिए वीटीआर प्रशासन ने पटना और देहरादून प्रयोगशाला में भेजा है।

मृत बाघिन की उम्र करीब दो वर्ष आंकी गई है।

वर्ष 2018 में बाघ और तेंदुए की भिड़ंत में तेंदुए की मौत हो गई थी।