उप्र : मजदूर ने बिस्तर पर पेशाब करने पर 3 साल के इकलौते बेटे को मार डाला

बच्चों और पत्नी के सामने उसकी बेरहमी से पिटाई की, मां बच्चे के लिए दया की भीख मांगती रही

कानपुर (उप्र) | उत्तर प्रदेश में एक दिहाड़ी मजदूर ने अपने तीन साल के इकलौते बेटे को बिस्तर में पेशाब करने पर पीट-पीटकर मार डाला। बच्चे की मां और मामा ने पुलिस को घटना की सूचना दी, जिसके बाद बुधवार शाम आरोपी पिता को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

पिता बेटे के शव को लेकर हमीरपुर भाग गया था। उसे हमीरपुर पुलिस ने हिरासत में लिया और बाद में उसे कानपुर पुलिस को सौंप दिया गया।

कानपुर नगर के एसपी (ग्रामीण) बृजेश कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि आरोपी संतराज ईंट-भट्ठा मजदूर है। बेटे की की हत्या करने के बाद उसMurder.ने धमकाते हुए पत्नी और दोनों बेटियों को न रोने और किसी को घटना के बारे में न बताने को कहा था। पुलिस से बचने के लिए वह अपने बेटे के शव और परिवार के साथ हमीरपुर जिले के चानी गांव भाग गया।

पुलिस अधिकारी ने कहा, “संतराज ने अपने साथ सो रहे बच्चे रवींद्र को गुस्से में इसलिए मार डाला, क्योंकि उसने मंगलवार की रात बिस्तर गीला कर दिया था। उसने बाकी बच्चों और पत्नी के सामने उसकी बेरहमी से पिटाई की, जबकि मां बच्चे के लिए दया की भीख मांगती रही, लेकिन चांडाल बाप नहीं रुका। वह बच्चे को तब तक पीटता रहा, जब तक वह मर न गया। इसके बाद वह शव को लेकर फरार हो गया।”

रवींद्र संतराज का इकलौता बेटा था, उसकी दो बेटियां हैं।

आरोपी पर 302 (हत्या) सहित आईपीसी की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है, जबकि लड़के के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

–आईएएनएस 

संबंधित पोस्ट

उप्र में नगरसेवक की पत्नी और 2 बच्चों को जिंदा जलाया

उप्र : बेटे का सिर काटकर मां ने की खुदकुशी  

उप्र : शख्स ने विवाहित पड़ोसी महिला को चाकू से गोदा, एसिड डाला

उप्र : प्रेमी संग मिलकर पत्नी ने पति को जिंदा जलाया

उप्र : पेड़ से बांधकर आदमी को जिंदा आग के हवाले कर दिया

“साहब , मैं जिंदा हूं। साहब, मैं एक इंसान हूं, कोई भूत नहीं”

उप्र : शादी के बाद भी प्रेम-संबंध नहीं तोड़ा तो पिता ने बेटी को गोली मार दी 

उप्र : 4 अधिकारियों को डिमोट कर चपरासी, चौकीदार बनाया

उप्र : ‘वैक्सीन रजिस्ट्रेशन’ के बहाने लोगों से साइबर धोखाधड़ी

उप्र :शादी के एक दिन बाद दुल्हन नकदी और जेवर लेकर फरार

उप्र : वाहनों पर अब नहीं लगाए जाएंगे जाति-धर्म से जुड़े स्टीकर

उप्र : अदालत के आदेश में एक शब्द गायब, शख्स को जेल में बिताने पड़े 8 महीने