जल्द बहाल होगी घाटी की रौनक, सोमवार से खुलेंगे स्कुल-सुब्रह्मण्यम

सीएम सुब्रह्मण्यम जम्मू कश्मीर के हालातों में जल्द होंगे बदलाव

श्रीनगर। केंद्र सरकार ने आज जम्मू-कश्मीर पर लगाए गए प्रतिबंधों को लेकर एक बड़ा बयान दिया है। उन्होंने विश्वसनीय इनपुट के बिनाह पर कहा कि पाकिस्तान द्वारा समर्थित आतंकवादी समूह एक बड़े प्रदर्शन की तैयारी में है। जम्मू कश्मीर के मुख्य सचिव बीवीआर सुब्रह्मण्यम ने मीडियाकर्मियों को बताया, ” अब तक जान-माल की कोई भी हानि नहीं हुई और न ही कोई किसी भी तरह से गंभीर रूप से चोटिल हुआ है। उन्होंने कहा कि घाटी में शांति बनाए रखने के लिए केवल कुछ संदिग्ध और उपद्रवी लोगो को बंदी बनाया गया है।”

गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर 5 अगस्त से बंद था, जब केंद्र ने राष्ट्रपति के आदेश के माध्यम से अपनी विशेष राज्य के क़ानून 370 को रद्द कर, इसे दो अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित कर दिया। केंद्र के इस फैसले को कांग्रेस नेता राहुल गांधी सहित कई सामाजिक कार्यकर्ताओं और विपक्षी नेताओं ने इसे मानवाधिकारों का उल्लंघन करार दिया है।

जल्दी पटरी पर लौटेगी घाटी- मुख्य सचिव
जम्मू कश्मीर के मुख्य सचिव सुब्रह्मण्यम ने कहा कि जल्द ही पूरा इलाका सामान्य स्थिति लौट आएगा, उन्होंने कहा कि सरकारी कार्यालयों ने पहले ही काम-काज शुरू कर दिया है। वहीं अगले हफ्ते से स्कूल चरणबद्ध तरीके से फिर से खुलने लगेंगे। उन्होंने कहा कि आने वाले सप्ताहांत तक दूरसंचार सेवाओं को बहाल किया जाएगा।

मुख्य सचिव ने कहा “विकसित होती स्थिति को ध्यान में रखते हुए, हम क्रमिक और सुव्यवस्थित तरीके से प्रतिबंधों को कम करने के लिए कदम उठा रहे हैं। इस प्रतिबंधों की भी समीक्षा की जा रही है और कानून-व्यवस्था की स्थिति को ध्यान में रखते हुए उचित निर्णय लिया जाएगा।”

गिरफ्तारी पर बोले – सुरक्षा के लिहाज़ से उठाए है कदम
नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला और पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी की प्रमुख महबूबा मुफ्ती सहित प्रमुख राजनीतिक नेताओं को संविधान के अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा देने से पहले रात को हिरासत में ले लिया था। उन्हें अभी रिहा नहीं किया गया है। इससे जुड़े सवाल का जवाब देते हुए सीएस ने कहा कि “हमने जो कुछ भी किया वह केवल एहतियात के तौर पर किया गया, बड़े पैमाने पर जनता की सुरक्षा और भलाई को ध्यान में रखते हुए फैसले लिए गए। उन्होंने दावा किया हमने अपने फैसले के माध्यम से मानव जीवन को किसी भी तरह की हानि को रोका है।