Video : कांग्रेस की बैठक में बोली सोनिया, ख़तरे में देश का लोकतंत्र

सोनिया गांधी द्वारा पार्टी की कमान सम्हालने के बाद पहली बैठक

नई दिल्ली। कांग्रेस अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने गुरुवार को महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती की कार्ययोजनाओं पर चर्चा के लिए पार्टी नेताओं की एक बैठक ली है। इस बैठक में पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, एआईसीसी महासचिव और विभिन्न राज्यों के प्रभारी, राज्य सरकार के प्रमुख और सीएलपी नेता शामिल थे। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी बैठक में मौजूद नहीं थे। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक़ बैठक को संबोधित करते हुए कांग्रेस की अंतिरम अध्यक्षा ने कहा कि लोकतंत्र खतरे में है।

सबसे खतरनाक तरीके से लोकतंत्र का दुरुपयोग और दुरुपयोग किया जा रहा है। गांधी, पटेल, अंबेडकर जैसे नेताओं का अपने नापाक एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए किया जा रहा है। सोनिया ने कहा कि उनके सच्चे संदेशों का भी गलत इस्तेमाल कर राजनीति की जा रहे है। इसके आलावा कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्षा सोनिया गांधी ने देश की आर्थिक मंदी पर भी चिंता ज़ाहिर की है।

कांग्रेस के सूत्रों ने कहा कि पार्टी की बैठक में सोनिया गांधी ने कहा कि आर्थिक स्थिति बहुत विकट है, लगातार कारोबार में नुक़सान बढ़ रहा है। बढ़ते नुक़सान और ठप कारोबार से ध्यान हटाने के लिए सरकार जो कुछ भी कर रही है वह केवल और केवल बदले की राजनीति में लिप्त होकर कर रही है।

राहुल गांधी रहे नदारद
बैठक में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी बैठक में मौजूद नहीं थे। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पुडुचेरी के सीएम वी नारायणसामी इस बैठक में मौजूद थे। हालाँकि इस बैठक में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ शामिल नहीं हुए है।

               कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष बनने के बाद सोनिया गांधी की अध्यक्षता में यह पहली बैठक हुई है, जो राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष छोड़ने के बाद हुई है। इस बैठक के दौरान पार्टी के नेता सदस्यता अभियान से संबंधित रणनीतियों और प्रत्येक राज्य इकाई में इसे सफल बनाने के बारे में भी चर्चा हुई है।