अंसल बंधुओं द्वारा दिए गए 60 करोड़ रुपये का क्या हुआ : सुप्रीम कोर्ट

60 करोड़ रुपये के उपयोग को लेकर दिल्ली सरकार से सवाल

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को उपहार सिनेमा अग्नि त्रासदी मामले में अंसल बंधुओं द्वारा जुर्माने के तौर पर एक ट्रॉमा सेंटर स्थापित करने के लिए जमा किए गए 60 करोड़ रुपये के उपयोग को लेकर दिल्ली सरकार से सवाल किया।

न्यायमूर्ति अशोक भूषण, न्यायमूर्ति संजय किशन कौल और न्यायमूर्ति एम. आर. शाह की एक पीठ ने कहा कि उपहार आग त्रासदी मामले में अंसल बंधुओं द्वारा लगभग 60 करोड़ रुपये दिए गए थे और यह रकम एक ट्रॉमा सेंटर स्थापित करने के लिए थी।

सुप्रीम कोर्ट की पीठ ने कहा, उसका क्या हुआ? एक पहले से ही है। अगर वह स्थापित नहीं होता है, तो हम विचार कर सकते हैं कि धनराशि का क्या करना है।

सुप्रीम कोर्ट की पीठ ने कहा कि मौजूदा ट्रॉमा सेंटर ने कोविड-19 रोगियों की बहुत अच्छी तरह से सेवा की है। साथ ही पीठ ने दिल्ली सरकार के वकील से पूछा कि उन्होंने 60 करोड़ रुपये का उपयोग क्यों नहीं किया है। इसके अलावा उन्हें एक ट्रॉमा सेंटर स्थापित करने को कहा गया था। पीठ ने कहा, इसके लिए किसे जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए।

(आईएएनएस)

संबंधित पोस्ट

सुप्रीम कोर्ट ने झीरम घाटी हमले संबंधी याचिका पर विचार से किया इनकार

सुदर्शन टीवी का मुख्य उद्देश्य मुस्लिम समुदाय को कलंकित करने का : सुप्रीम कोर्ट 

मौजूदा और पूर्व सांसदों व विधायकों के खिलाफ साढ़े 4 हजार मामले लंबित : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, एमसीआई के पास आरक्षण देने की शक्ति नहीं

सुप्रीम कोर्ट ने अवमानना मामले में प्रशांत भूषण को 1 रुपया जुर्माना किया

परीक्षाओं को रोककर विद्यार्थियों का अहित तो नहीं कर रहे ?

सुप्रीम कोर्ट ने सरकारी कर्मी को 13 साल बाद दिलाई पेंशन

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, प्रशांत भूषण मामले को उपयुक्त पीठ को सौंपा जाएगा

सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत भूषण को अवमानना का दोषी माना, सजा पर फैसला बाकी

पद्मनाभस्वामी मंदिर मामले में त्रावणकोर राजघराने का हक बरकरार

विकास दुबे एनकाउंटर के कुछ घंटे पहले दाखिल याचिका में ऐसी आशंका जताई गई थी

31 मार्च के बाद बेचे गए बीएस-4 वाहनों का पंजीकरण नहीं होगा : सुप्रीम कोर्ट