जब हमले होते थे तब कांग्रेस सिर्फ बयान देती थी-मोदी

हरियाणा के फतेहाबाद में मोदी ने छठवे चरण के लिए ली चुनवी सभा

फतेहाबाद। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने छठवे चरण के मतदान के लिए की हरियाणा के फतेहाबाद में विशाल जनसभा को संबोधित किया। मोदी ने इस सभा से दोबारा सरकार बनाने का दावा किया है। उन्होंने कहा कि देश में वोटिंग के पांच चरण हो चुके हैं और अब स्थिति पूरी तरह साफ हो चुकी है।

हरियाणा में मोदी                                                       देश के आशीर्वाद से जब 23 मई को चुनाव के नतीजे आएंगे, तो पता लग जाएगा कि फिर एक बार मोदी सरकार। पीएम मोदी ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि कांग्रेस का अतीत ऐसा है कि राष्ट्र रक्षा में ये कुछ नहीं बोल पाते। 2014 से पहले आए दिन पाकिस्तान हमारे जवानों के साथ बर्बरता करता था, देश में आतंकी हमले होते थे लेकिन तब की केंद्र सरकार सिर्फ बयान देती थी। मोदी ने कहा कि आप मुझे बताइये कोई राष्ट्र अपनी रक्षा नीति को मजबूत किये बिना विश्व शक्ति बन सकता है क्या ? जो राष्ट्र अपनी रक्षा नहीं कर पाता, दुनिया उसकी बात सुनेगी क्या ?

कांग्रेस और उसके महामिलावटी साथियों ने अपनी एक भी सभा में इस विषय पर एक भी बात बताई है क्या ? पीएम ने कहा कि अब हमारे सपूत आतंकियों के अड्डे में घुसकर मारते हैं। पहली सर्जिकल स्ट्राइक कर हम जमीन से हमला करने गए। फिर हमने एयर स्ट्राइक की। जो आतंकी पहले हमें डराते थे, वो अब दुबक के बैठे हैं। मसूद अजहर अब ग्लोबल आतंकी घोषित हो चुका है। मोदी ने कांग्रेस सरकाई नियत पर सवाल दागते हुए कहा कि पाकिस्तान अब मसूद अजहर के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए मजबूर है। अपनी 5-6 साल की कोशिश करने के बाद भी कांग्रेस सरकार ऐसा नहीं करवा पाई थी। क्यों? क्योंकि नीयत नहीं थी, नीति साफ नहीं थी।

घोषणा पत्र पर किया हमला
पीएम मोदी ने कांग्रेस के घोषणा पत्र पर भी हमला किया। मोदी ने कहा कि कांग्रेस ने ढकोसला पत्र में कहा है कि दिल्ली में अगर उसकी सरकार बनी तो जम्मू कश्मीर में तैनात सुरक्षा बलों को जो विशेष अधिकार मिला है, उसे छीन लिया जाएगा। यानी कांग्रेस आतंकवादियों, पत्थरबाजों को खुली छूट देने की बात कर रही है। उन्होंने कहा कि भारत माता की जय बोलने पर ऐतराज जताने वाली कांग्रेस अब देशद्रोह का कानून हटाने की भी बात कह रही है। कांग्रेस चाहती है कि टुकड़े-टुकड़े गैंग को, भारत को गाली देने वालों को, तिरंगे का अपमान करने वालों, नक्सलवादियों के समर्थकों को खुली छूट मिले।