देश विशेष : गोलमाल है, भई सब गोलमाल है कोरिया में शौचालय का यह हाल है

2 अक्टूबर स्वच्छ भारत अभियान के 5 वर्ष

बैकुंठपुर। आज के इस इंटरनेट युग में यदि आपके खाते में नाम का एक अक्षर भी गलत होता हैतो आप पैसे नहीं निकाल सकते और यदि एक अंक गलत हो जाता हैतो पैसा किसी और के खाते में चला जाता है। पर इसी को हथियार बनाकर गोलमाल किया गया है। मामला कोरिया के कुछ पचायतों का है। जहाँ शौचालय निर्माण को लेकर ज़बरदस्त हेराफेरी सामने आई है। और यह सब हम नहीं सरकारी आंकड़े कह रहे हैं।

दरअसल स्वच्छ भारत अभियान में टेक्निकल टाइपिंग मिस्टेक कर पंचायतों में एक ही नाम के हितग्राहियों को दो दो बार राशि जारी कर दी गई। किसी नाम में एक अक्षर हटा दिया गया तो किसी में स्पेस देकर दुबारा उस नाम से राशि जारी कर दी गई। एक ही हितग्राही का मनरेगा से भी और एसबीएम से भी शौचालय स्वीकृत हो गया। मजे की बात तो यह कि इस कार्य की मॉनिटरिंग में लगी स्वच्छ भारत अभियान की टीम ने अभी इस ओर ध्यान ही नहीं दिया और एक ही शौचालय के लिए दो दो तो कभी तीन बार राशि जारी कर दी गई। जब हमने  स्वच्छ भारत अभियान की सरकारी वेबसाईड खंगाली तो पूरा माजरा सामने आया इधर कलेक्टर डोमन सिंह का कहना है कि मामले की जांच करवाई जाएगीखामियां पाए जाने पर कड़ी कार्यवाही होगी।

                                बीते वर्ष 2013-14 से 2017-18 तक 90,779 शौचालयों का निर्माण का सर्वे हुआजिसमें वर्ष 2013-14 में 2612 बनाए जा चुके थेजिसमें बाद अक्टूबर 2014 को स्वच्छ भारत अभियान की शुरूआत हुई और 2017-18 तक 88167 शौचालयों निर्माण पूर्ण होना बताया गया। जिसके बाद पूरा जिला ओडीएफ घोषित कर दिया गया। ये आंकड़े केन्द्र सरकार की वेबसाईड मिनिस्ट्री ऑफ वॉटर एंड सेनिटेशन पर उपलब्ध है। सरकारी साईट कोरिया जिले के  तहसीलों के एक दो ग्राम पंचायतों की पड़ताल की।  इनमें  बैकुंठपुर के कंचनपुर और झरनापाराभरतपुर के भगवानपुरबहराशीखडगवां के मेरोइंदरपुरबचरापोडीसोनहत के ग्राम पंचायत सोनहतमझारटोला की इंद्राज किए गए डेटा को देखा। हर ग्राम पंचायत में 15 से 20 नाम ऐसे पाए गए जिन्हें मनरेगा और एसबीएम दोनों से शौचालय के 12 हजार रू जारी किए गए हैं

                                    इसके अलावा कुछ पंचायतों में सिर्फ हितग्राही का नाम है पिता के नाम पर तीन अक्षर इंट्री कर दिए गए हैऐसे सैकडों नामों को इंट्री किया गया है। चूंकि कम्प्यूटर सिर्फ एक ही नाम एक बार ही ले सकता हैइसलिए इन नामों में हल्का सा अंतर कर दो बार सॉफ्टवेयर में इंट्री कर दिया गया। जैसे झरनापारा में JAWAHIR PRANA SAI~को एसबीएम से राशि दी गईऔर फिर इस नाम में थोड़ा बदलाव लाकर pran sae करके दुबारा मनरेगा से भी स्वीकृति दे दी गई। इसी तरह कंचनपुर में dubraj basant को एसबीएम से दो बार राशि जारी की गईदूसरी बार dub raj basant करके राशि दे दी गईइसके दुबराज के नाम में एक स्पेश दे दिया गया। इसी तरह मेरो में shiv nath Pawan sai को दुबारा देने के लिए sivnath pawan sai कर कई लोगों के नाम से राशि दुबारा जारी कर दी गई है।

एक नाम के दर्जन से ज्यादा हितग्राही
स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण की बेबसाईट में कोरिया जिले की जो जानकारी इंट्री की गयी है उसका अवलोकन करने से स्पष्ट हो रहा है कि एक ग्राम पंचायत में दर्जन से ज्यादा हितग्राही एक नाम के ही साथ ही उनके पिता जी का नाम भी एक ही है। दूसरी ओर ग्राम पंचायतों के पदाधिकारियों को इसकी भनक तक नहीं हैआखिर ऐसे कैसे हुआ, किसी गलती से नही बल्कि जानबूझकर तकनीकी कमी करके बेबसाईट में फर्जी नामों को भी इंद्राज कर दी गयी है। दरअसलस्वच्छ भारत अभियान संविदाकर्मियों के भरोसे हैमॉनिटरिंग के आभाव में एक ही नाम से दो दो बार राशि जारी कर दी गईजिन्हें इस कार्य के लिए रखा गया हैउसमें भारी लापरवाही बरती गई है। यदि इसका भौतिक सत्यापन किया जाए तो इसमें करोड़ों की गड़ड़ी उजागर हो सकती है।

नाम तो है पर नहीं बने शौचालय
दूसरी ओर लगभग हर पंचायत में कुछ ग्रामीणों को आरोप है कि उनके नाम से पैसा तो आया परन्तु शौचालय आज तक नहीं बना और राशि निकाल ली गई। खडगवां बचरापोडी ग्राम पंचायत के राकेश मोतीरामराधेश्याम स्व सज्जनसायअशोक कुमार मोहरसायरविकुमार सुन्दरसायआन्नदराम रामलालगुलाबचंद शिवपूजननारेन्द्र कुमार श्रीकांतसुन्दरसाय बीरनकन्हैयालाल सुन्दरसायराजेशकुमार काशीरामराजू काशीरामलक्ष्मण रामसिहरामकुमार राम सिंह का कहना है कि उनके नाम से शौचालय स्वीकृत हुए है परन्तु आज तक बनाए नहीं गए है।

कब कितने बने शौचालय
तहसील   2014- 2015         2015-16                2016-17        2017-18
बैकुंठपुर       693                    5198                     13247             8961
भरतपुर        285                   7335                       9218               925
खडगवां        394                   4716                       5825              8432
मनेन्द्रगढ     462                   3835                      10631            1050