पीएम विरोध : घरों गिरफ्तार किए गए कांग्रेसी कार्यकर्त्ता


रायपुर। पीएम विजिट के दौरान कांग्रेस और एनएसयूआई द्वारा मोदी के विरोध करने की रणनीति पुलिस की तैयारी के सामने खोखली साबित हो गई। पीएम के नया रायपुर विजिट के दौरान विरोध की आशंका को देखते हुए एसएसपी अमरेश मिश्रा कांग्रेस और एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं को घरों से ही गिरफ़्तार करवा लिया। हालाँकि मोदी के 5 लेयर सिक्युरेटी सिस्टम को भेद कर कांग्रेसी कार्यकर्त्ता उनके आस पास भी नहीं फटक पाते। बावजूद उसके एसएसपी ने कोई भी रिस्क नहीं लेते हुए कांग्रेसी कार्यकर्ताओं को गिरफ़्तार किया। गिरफ्तारी की शुरुवात एनएसयूआई के प्रदेश अध्यक्ष आकाश शर्मा से हुई, इसके बाद महासचिव कोमल अग्रवाल की गिरफ्तारी हुई। इन्हे पुलिस ने शहर दूर ही रखा है। इधर रायपुर शहर जिला कांग्रेस के अध्यक्ष विकास उपाध्याय को उनके घर में ही नज़र बंद किया गया है। 
गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के छत्तीसगढ़ प्रवास के दौरान कांग्रेसियों द्वारा “मोदी गो बैक” के नारे सडकों पर लिखे गए। देर रात सडकों पर लिखे इन नारों की गूंज से पुलिस और सरकार की नींद इस बात से उडी रहे के कही पीएम विजिट के दौरान कांग्रेसी कोई उपद्रव न कर बैठे, लिहाज़ा शहर के एसएसपी अमरेश मिश्रा ने कांग्रेस और एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं को अल सुबह घरों से गिरफ्तार कराने का फरमान ज़ारी किया।

ये है एनएसयूआई का आरोप
एनएसयूआई के महासचिव कोमल अग्रवाल ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि देश में बढ़ती बेरोजगारी, असुरक्षित कन्या महाविद्यालय, शिक्षा के गिरते स्तर, शिक्षा में बढ़ते भ्रष्टाचार और कथित तौर पर बढ़ते संघीकरण के लिए केंद्र की मोदी सरकार जिममेदार है। इसी बात विरोध जताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरे का एनएसयूआई विरोध कर रही है। कोमल ने बताया कि हमारे हर कार्यकर्ताओं ने कार्यक्रम स्थल के आसपास की सड़कों पर ‘मोदी गो बैक’ का नारा लिखा, सिर्फ इस लिए हमे गिरफ़्तार किया जा रहा है। पीएम की प्रस्तावित यात्रा की वजह से इस इलाके की सुरक्षा बढ़ा दी गई है फिर भी कार्यकर्ता नारा लिखने में कामयाब हो गए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 14 जून को राज्य के एक दिवसीय प्रवास पर छत्तीसगढ़ आ रहे हैं।