जब सदन में अजीत जोगी ने कहा – शराब ने छीन लिया मेरा दोस्त…

विधानसभा में शराबबंदी पर भावुक हुए अजीत जोगी

रायपुर। भूतपूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने मीडिया से चर्चा के दौरान कहा कि सदन में जो बात रखी गई है। किसानों के कर्ज माफी के लिए उस पर वह आज भी अडीग है कि किसानों को पूर्ण ऋण माफी सरकार को देनी चाहिए, ताकि कोई भी किसान ऋण से लदा हुआ ना हो।

साथ ही उन्होंने शराबबंदी को लेकर साफ तौर पर कहा कि राज्य सरकार का मूड नहीं लगता कि वह शराब बंद की ओर अग्रसर है। राज्य सरकार द्वारा जारी किए गए शराब पर नोटिफिकेशन पर उन्होंने कहा कि शराब का नोटिफिकेशन दिखाता है कि प्रदेश में शराब का ठेका लगातार जारी रहेगा। लेकिन जोगी ने अपनी बात कहते हुए कहा कि सरकार को चाहिए की घोषणा पत्र के आधार पर राज्य में पूर्ण शराबबंदी करें।

जोगी ने सदन में भावुकता से बात रखते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ भारत का सबसे धनवान प्रदेश है, लेकिन यहां का व्यक्ति इसलिए गरीब है क्योंकि शराब ने उन्हें बर्बाद कर दिया है। न जाने कितनी बहने विधवा हो गई, कितने बच्चे अनाथ हो गए। आपने अपने घोषणा पत्र में पूर्ण शराबबंदी के वादा किया है। स्कूल में मेरे साथ पढ़ते थे मेरे एक मित्र दयाल सिंह। दो सौ एकड़ जमीन थी, अपने ही कुए में शराब पीकर गिरकर मर गए। उनकी पत्नी को रेजा का काम कर अपने बच्चे को पालना पड़ा। 200 एकड़ का किसान शराब की लत से भूमिहीन बन सकता है।