चित्रकोट उपचुनाव : भाजपा मुक्त बस्तर, कांग्रेस के “राजमन” जीते

चित्रकोट उपचुनाव के नतीजों पर बस्तर से राजधानी तक जश्न

जगदलपुर। छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित क्षेत्र में हुए दुसरे उपचुनाव में कांग्रेस ने जबरदस्त जीत हासिल की है। इस जीत के साथ ही कांग्रेस ने भाजपा का सूपड़ा ही बस्तर संभाग से साफ कर दिया है। चित्रकोट विधानसभा सीट के मतगणना में कांग्रेस के राजमन बेंजाम अपने निकटतम भारतीय जनता पार्टी के लच्छुराम कश्यप को शुरू से ही पिछे रहे। 20 राउंड की गिनती के बाद 17, 862 मतों की लीड से कांग्रेस प्रत्याशी ने जीत हासिल कर ली है। जिले के निर्वाचन अधिकारी ने चित्रकोट विधानसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी राजमन बेंजाम को विधायक चुने जाने के बाद निर्वाचन प्रमाण पत्र दिया। इस अवसर पर क्षेत्र के सांसद दीपक बैज, पीसीसी अध्यक्ष मोहन मरकाम सहित कांग्रेस कार्यकर्ता मौजुद थे।


आपको बता दें कि चित्रकोट सीट पर उप चुनाव में बेंजाम को 62,097 मत और कश्यप को 44,235 मत प्राप्त हुए हैं। चित्रकोट विधानसभा सीट पर उपचुनाव के लिए इस महीने की 21 तारीख को मतदान हुआ था। लगभग 78.12 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था। राज्य के नक्सल प्रभावित बस्तर क्षेत्र की इस विधानसभा सीट से कांग्रेस के विधायक दीपक बैज को बीते लोकसभा चुनाव में सांसद चुन लिए जाने के बाद से अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित यह सीट रिक्त हो गई जिसकी वजह से यहां उपचुनाव कराया गया। राज्य में कांग्रेस की सरकार आने के बाद दो उपचुनाव बस्तर क्षेत्र में हुए जिसमें कांगे्रस ने भाजपा को दोनो ही सीट दंतेवाड़ा और चित्रकोट में पटखनी दे दी। साल 2018 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने “12 का 12 बस्तर हमारा” का नारा दिया था जो आज की जीत के साथ साकार हुआ है।

बस्तर से राजधानी तक मना जश्न
चित्रकोट में ऐतिहासिक जीत के जश्न में कांग्रेस डूबी नजर आई। बस्तर से लेकर राजघानी रायपुर में भी कांग्रेस के सभी कार्यकर्ता ढोल नगाड़ों के थाप के साथ जमकर झूमें। प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में कार्यकर्ताओं ने एक दूसरे को मिठाई खिलाकर जीत की बधाई दी। कांग्रेस के जीत को लेकर दल के प्रवक्ता सुषील आनंद शुक्ला ने कहा कि ये जीत मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के दस महनोें में बस्तर क्षेत्र के लिए किए काम का नतीजा है। शुक्ला ने कहा कि भाजपा के प्रति आदिवासियों का मोह भंग हो गया है। यही कारण है कि बस्तर संभाग से भाजपा का सफाया हो गया।