दिल्ली गणतंत्र दिवस की परेड में नहीं नज़र आएगी छत्तीसगढ़ की झांकी

गणतंत्र दिवस परेड से छत्तीसगढ़ की झांकी हटाने पर सियासत शुरू

दिल्ली / रायपुर। इस साल 26 जनवरी यानि गणतंत्र दिवस के पर दिल्ली के राजपथ में छत्तीसगढ़ की झलक नज़र नहीं आएगी। गणतंत्र दिवस में आयोजित होने वाले परेड में हर साल की तरह ही देश के सभी राज्यों की झांकियां तो शामिल होंगी लेकिन, छत्तीसगढ़ की झांकी शामिल नहीं होगी।

गणतंत्र दिवस

छत्तीसगढ़ की झांकी को शामिल नहीं किए जाने पर प्रदेश का सियासी पारा गरमा गया है। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के प्रवक्ता संजीव अग्रवाल ने कहा कि हर वर्ष छत्तीसगढ़ की झांकी को गणतंत्र दिवस की परेड में दिल्ली में शामिल किया जाता था, लेकिन इस वर्ष छत्तीसगढ़ की झांकी को गणतंत्र दिवस की परेड में स्थान नहीं मिला। अग्रवाल ने इसे विधानसभा चुनाव में मिली हार से जोड़ते हुए कहा कि झांकी को शमिल नहीं करने का कारण मोदी सरकार की खीझ है। क्योंकि हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा को छत्तीसगढ़ में बुरी तरह से शिकस्त मिली है। उन्होंने कहा कि जो भाजपा सरकार 15 साल से लगातार सत्ता में थी, उसे छत्तीसगढ़ में मात्र 15 सीटों से ही संतोष करना पड़ा जिसका कारण है।

संजीव अग्रवाल ने कहा कि मोदी जी के प्रधानमंत्री बनने के बाद छत्तीसगढ़ का यह पहला विधानसभा चुनाव था, जिसमें करारी शिकस्त मिली है। इसी कारण बदले की दुर्भावना से मोदी सरकार ने इस वर्ष आयोजित होने वाले गणतंत्र दिवस की परेड में छत्तीसगढ़ की झांकी को स्थान नहीं दिया। अग्रवाल ने कहा कि ये मामला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का छत्तीसगढ़ की जनता और छत्तीसगढ़ के प्रति दोहरे मापदंड को दर्शाता है। जिसकी हम कड़ी निंदा करते हैं।