मध्य प्रदेश : कंगना रनौत पर सियासी संग्राम

भोपाल| मध्य प्रदेश में सियासी संग्राम का नया हथियार फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत बन गई है। किसान आंदोलन को लेकर दिए गए बयान के बाद कंगना के खिलाफ बैतूल में कांग्रेस ने लगातार दो दिन तक प्रदर्शन किया, क्योंकि यहां उनकी ‘धाकड़’ फिल्म की शूटिंग चल रही है। वहीं राज्य सरकार कंगना के समर्थन में खड़ी नजर आ रही है।

फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत अपने बयानों के कारण बीते कुछ दिनों से सुर्खियों में हैं और उन्होंने किसान आंदोलन को लेकर ऐसा विवादित बयान दिया कि कांग्रेस उनके खिलाफ आक्रामक हो गई है।

कंगना की फिल्म धाकड़ की बैतूल के सारणी में शूटिंग चल रही है और कांग्रेस ने कंगना से अपने बयान पर माफी मांगने की मांग की थी, साथ ही चेतावनी दी थी कि अगर ऐसा नहीं करती हैं तो उनके खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया जाएगा।

बीते दो दिनों में कांग्रेस ने सारणी में प्रदर्शन किया तो पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा।
Actress Kangana Ranaut. (File Photo: IANS)
बैतूल के विधायक निलय डागा का कहना है कि कंगना ने देश के अन्नदाता का अपमान किया है। वे सिर्फ इसलिए ऐसा कर रही हैं क्योंकि उन्हें भाजपा और केंद्र सरकार का संरक्षण हासिल है। कांग्रेस हमेशा से अन्याय के खिलाफ लड़ती रही है और आगे भी लड़ती रहेगी।

कांग्रेस के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अरुण यादव का कहना है कि किसानों का खालिस्तानी बोलकर अपमान करने वाली कंगना रनौत का सारणी, बैतूल में विरोध कर रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज बताता है कि अब देश एवं प्रदेश में किसानों के हक की बात भी नहीं कर सकते।

उन्होंने आगे कहा कि किसानों को लाठियां, सड़कों पर दीवारें, नुकीले काटों का जंजाल और कंगना रनौत आधुनिक भारत माता? क्या यह जय जवान एवं जय किसान का ही देश है?

एक तरफ जहां कांग्रेस कंगना के खिलाफ सड़क पर उतरकर विरोध दर्ज कराने के साथ आगामी समय में प्रदेशव्यापी आंदोलन की रणनीति बनाने की तैयारी मंे है तो वहीं प्रदेश के गृहमंत्री डॉ. नरेात्तम मिश्रा का कहना है कि हम मध्य प्रदेश की शांति किसी को भंग नहीं करने देंगे, चाहे वह कोई भी हो। कंगना रनौत बहन एकदम निश्चिंत रहें।

राज्य में कंगना पर सियासी संग्राम पर राजनीतिक विश्लेषक शिव अनुराग पटैरिया का कहना है कि कंगना, भाजपा और कांग्रेस तीनों ही अपने हित दिख रहे हैं। कंगना बयानों के जरिए विवादों की रानी बनना चाहती है, वे जानती हैं कि ऐसा करने पर एक वर्ग उनके साथ और अन्य विरोध में होगा, वही हो रहा है।

किसानों पर कंगना ने बयान दिया तो कांग्रेस विरोध में आ गई और भाजपा कंगना का समर्थन कर रही है। कुल मिलाकर तीनों ही अपने-अपने फायदे देख रहे हैं, वास्तव में उन्हें मूल मुद्दों से कोई सरोकार नहीं है।

–आईएएनएस

संबंधित पोस्ट

कंगना अगली फिल्म में निभाएंगी इंदिरा गांधी का किरदार

मध्य प्रदेश के सीधी में विधवा के साथ दरिंदगी, कोख में सरिया डाला

मध्य प्रदेश के कद्दावर मंत्री गोपाल भार्गव के बंगले पर चली जेसीबी

कंगना रनौत का कोरोना सैंपल फेल,मुंबई पहुँचने में हो सकती है देरी

मध्यप्रदेश के इंदौर में कोरोना से मरे मरीज की जेब कटी, मोबाइल चोरी

मध्यप्रदेश की सियासत में पाप, पापी अधर्म और धर्म की एंट्री

मप्र : सिंधिया के प्रभाव वाले जिलों की कांग्रेस कार्यकारिणी भंग

मप्र : एमसीयू के कुलपति का प्रभार संजय द्विवेदी को

मप्र : ऑक्सीजन थेरेपी से कोरोना मरीजों का सफल उपचार संभव- डॉ. नरोत्तम मिश्रा

LockDown Impact : भोपाल में बंदी के नियमों को तोड़ने पर 2969 मामले दर्ज

ट्रक में भरकर 25 श्रमिकों को मध्य प्रदेश ले जाने के मामले का पर्दाफाश

शिवराज मंत्रिमंडल का गठन, राजभवन में 5 मंत्रियों ने ली शपथ