अविश्वास प्रस्ताव में अडिग रहे डॉ रमन, बाकी से बेहतर रहा सीएलपी सिंहदेव का परफॉर्मेंस

रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्य बनने के बाद अब तक प्रदेश की विधानसभा में आधा दर्जन अविश्वास प्रस्ताव पेश हुए है। चतुर्थ विधानसभा के अंतिम सत्र में प्रस्तुत हुए अविश्वास प्रस्ताव को अगर जोड़ा जाए तो इसकी कुल संख्या 7 होगी। चौथी विधानसभा में प्रस्तुत हुए अविश्वास प्रस्तावों में हर अविश्वास प्रस्ताव अपने आप में रिकार्ड कायम करने वाले रहे है। मगर सरकार पर सदन का विशवास कायम रहा। आधा दर्ज़न प्रस्तावों में आज के अविश्वास प्रस्ताव को मिलाकर पांच प्रस्ताव मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के खिलाफ पेश हुए है। जिनमें रमन सरकार अडिग रही है। पांच अविश्वास प्रस्ताव में रमन सरकार के खिलाफ़ कुल 138 वोट और प्रस्ताव के खिलाफ 198 वोट पड़े। इन प्रस्तावों में सरकार ने विपक्ष के हर मुद्दों सक्षमता से जवाब दिया। हर विभाग के मुखिया ने सरकार के खिलाफ लाए गए प्रस्तावों पर खुलकर तथ्यात्मक चर्चा की।
वहीं चौथे सदन के नेताप्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव की अगुवानी में अब तक सबसे ज़्यादा तीन प्रस्ताव सदन में रखे गए है, हालांकि उनका भी हश्र पूर्व के प्रस्तावों की तरह ही रहा। अल्प मत के चलते सभी प्रस्ताव अस्वीकार हुए। राज्य निर्माण के 18 साल में सदन में सबसे लम्बी चर्चा का रिकार्ड भी सिंहदेव द्वारा प्रस्तुत प्रस्ताव को ही मिला है। 24 जुलाई 2015 को मानसून सत्र में रखे गए अविश्वास प्रस्ताव में कुल 24 घंटे 25 मिनट की चर्चा हुई। इसके बाद 22 दिसंबर 2017 को शीत सत्र के दौरान रखे गए प्रस्ताव में 18 घंटे 38 मिनट की लगातार चर्चा ने एक अलग रिकार्ड बनाया। इसके इतर आज के प्रस्ताव को अगर छोड़ दिया जाए (चूँकि अब तक मतदान नहीं हुआ है) तो सिंहदेव के नेताप्रतिपक्षीय नेतृत्व में ही प्रस्ताव के पक्ष में सबसे ज़्यादा 38 मत मिले है। लिहाज़ा अब तक के सफल नेताप्रतिपक्षों की गिनती में टीएस सिंहदेव का नाम पहले नंबर पर जा पंहुचा है।

अब तक प्रस्तुत और अस्वीकृत हो चुके अविश्वास प्रस्ताव की महत्वपूर्ण जानकारियां…

01 नेता प्रतिपक्ष टी.एस.सिंहदेव विरुद्ध मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह
सत्र : शीत सत्र
तारीख़ : 22 दिसंबर 2017
चर्चा : 18 घंटे 38 मिनट
पक्ष में मत : 38
विपक्ष में मत : 48
स्तिथि : अस्वीकृत
नोट : अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा 22 दिसम्बर को दोपहर 12.22 बजे से प्रारंभ हो कर 23 दिसम्बर 2017 को प्रातः 7.06 तक लगातार चली।

02 नेता प्रतिपक्ष टी.एस.सिंहदेव विरुद्ध मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह
सत्र : मानसून सत्र
तारीख़ : 24 जुलाई 2015
चर्चा : 24 घंटे 25 मिनट
पक्ष में मत : 37
विपक्ष में मत : 50
स्तिथि : अस्वीकृत

03 नेता प्रतिपक्ष रवीन्द्र चौबे विरुद्ध मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह
सत्र : शीत सत्र
तारीख़ : 16 दिसंबर 2011
चर्चा : 23 घंटे 19 मिनट
पक्ष में मत : 37
विपक्ष में मत : 48
स्तिथि : अस्वीकृत

04 नेता प्रतिपक्ष महेन्द्र कर्मा विरुद्ध मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह
सत्र : शीत सत्र
तारीख़ : 03 दिसंबर 2007
चर्चा : 17 घंटे 50 मिनट
पक्ष में मत : 26
विपक्ष में मत : 52
स्तिथि : अस्वीकृत

05 नेता प्रतिपक्ष नंद कुमार साय विरुद्ध मुख्यमंत्री अजीत जोगी
सत्र : शीत सत्र
तारीख़ : 30 सितंबर 2002
चर्चा : 17 घंटे 08 मिनट
पक्ष में मत : 22
विपक्ष में मत : 61
स्तिथि : अस्वीकृत

06 नेता प्रतिपक्ष नंद कुमार साय विरुद्ध मुख्यमंत्री अजीत जोगी
सत्र : मानसून सत्र
तारीख़ : 29 जुलाई 2003
चर्चा : 11 घंटे 52 मिनट
पक्ष में मत : 23
विपक्ष में मत : 54
स्तिथि : अस्वीकृत

(सोर्स : http://www.cgvidhansabha.gov.in/ )

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.