मप्र : विधायकों के इस्तीफे पर ‘एक दिन में’ लिया जाए फैसला : एससी

विधायकों की होगी वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग, नियुक्त होंगे पर्यवेक्षक

नई दिल्ली। मध्यप्रदेश में जारी सियासी संकट के बीच बहुमत परीक्षण को लेकर सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार फिर से सुनवाई हो रही है। इस दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि राज्य के 16 बागी कांग्रेसी विधायकों के इस्तीफे पर निर्णय ‘एक दिन के अंदर’ लिया जाए। सुप्रीम कोर्ट ने सुझाव दिया कि 16 बागी विधायकों की वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग होगी और अदालत इसके लिए एक पर्यवेक्षक नियुक्त करेगी।

शीर्ष न्यायालय ने प्रस्ताव देते हुए कहा कि बागी विधायक तटस्थ स्थान पर विधानसभा अध्यक्ष के सामने खुद को पेश कर सकते हैं।

गौरतलब है कि बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में इस मामले पर लंबी बहस चली, लेकिन फैसला नहीं हो पाया। अदालत ने राज्य विधानसभा अध्यक्ष के वकील अभिषेक मनु सिंघवी से पूछा कि 16 बागी विधायकों के इस्तीफे पर वह फैसला कब लेंगे। इस पर सिंघवी ने कहा कि वह गुरुवार को बता पाएंगे।

अदालत ने बागी विधायकों को न्यायाधीशों के समक्ष चैंबर में पेश किए जाने का प्रस्ताव भी ठुकरा दिया।

कोर्ट ने यह भी कहा कि फ्लोर टेस्ट में शामिल हों या नहीं लेकिन विधायकों को बंधक नहीं बनाया जा सकता है।

(आईएएनएस)

संबंधित पोस्ट

Corona Effect : मध्यप्रदेश में पैर पसार रहा कोविड-19

मप्र : शिवराज के हाथों फिर कमान ?

मप्र : कमलनाथ सरकार को बहुमत साबित करने का एससी ने दिया आदेश

मप्र : राज्यपाल के दूसरे पत्र के बाद भी फ्लोर टेस्ट पर संशय

मध्यप्रदेश में फ्लोर टेस्ट की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज

मप्र में नोवेल कोरोनावायरस महामारी घोषित, नए दिशा-निर्देश जारी

मप्र : ज्योतिरादित्य सिंधिया का भोपाल दौरा आज, करेंगे रोड शो

मप्र में सियासी खींचतान के बीच प्रशासनिक स्तर पर फेरबदल

मध्यप्रदेश : कांग्रेस विधायक मुख्यमंत्री आवास पर, ले जाए जाएंगे जयपुर

मप्र : पूर्व मंत्री संजय पाठक ने खुद की जान को खतरा बताया

विधायकों की खरीद-फरोख्त मामले में भाजपा पर दिग्विजय का दुबारा हमला

रामबाई का अजब बयान, ‘झूठ बोलूंगी नहीं और सच बताउंगी नहीं’