मप्र : कमलनाथ सरकार को बहुमत साबित करने का एससी ने दिया आदेश

सदन में हाथ उठाकर होगा फ्लोर टेस्ट

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने मध्य प्रदेश में मचे सियासी घमासान के बीच गुरुवार को बड़ा फैसला दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को शाम पांच बजे तक फ्लोर टेस्ट कराने का स्पीकर को निर्देश दिया है। फ्लोर टेस्ट सदन में हाथ उठाकर होगा। यानी विधायक हाथ उठाकर अपना मत देंगे। सुप्रीम कोर्ट ने फ्लोर टेस्ट के लिए 20 मार्च को विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने का निर्देश दिया है।

इस प्रकार कमलनाथ सरकार को अब हर हाल में बहुमत साबित करना होगा। अगर कमलनाथ बहुमत साबित नहीं कर पाए तो सरकार गिर जाएगी।

सुप्रीम कोर्ट ने फ्लोर टेस्ट की वीडियोग्राफी भी कराने के निर्देश दिए हैं। यह फैसला इसलिए भी अहम है क्योंकि मध्य प्रदेश के विधानसभा अध्यक्ष ने विधानसभा सत्र को 26 मार्च तक कोरोनावायरस के खतरे की बात कहते हुए स्थगित कर दिया था।

इसके बाद मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था।

(आईएएनएस)

संबंधित पोस्ट

Corona Update : मप्र में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 20

Corona Effect : राज्यों और केन्द्रशासित प्रदेशों में पूरी तरह लॉकडाउन

मप्र : ऑपरेशन कमल हुआ सफल, कमल नाथ ने ताज छोड़ा

मप्र : विधायकों के इस्तीफे पर ‘एक दिन में’ लिया जाए फैसला : एससी

मप्र : दो वाहनों में टक्कर के बाद आग लगी, 4 जिंदा जले

मप्र : राज्यपाल के दूसरे पत्र के बाद भी फ्लोर टेस्ट पर संशय

मध्यप्रदेश में फ्लोर टेस्ट की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज

अल्पमत में होने के कारण शक्ति परीक्षण से भाग रही कमल नाथ सरकार : तोमर

विस की कार्यसूची में विश्वास मत का जिक्र नहीं, भाजपा नेता पहुंचे राजभवन

मप्र : नहीं थम रहा खरीद-फरोख्त से शुरू हुआ सियासी घमासान

मप्र : आईफा अवार्ड के नाम पर 1 करोड़ की धोखाधड़ी

मप्र : राम मंदिर ट्रस्ट में शामिल नहीं किए जाने से शंकराचार्य नाराज