लॉकडाउन से कोई नतीजा नहीं, बल्कि जनता को हुआ भारी नुकसान : राहुल गांधी

सोनिया गांधी ने भी तीखा हमला कर कहा था, संघवाद की भावना भुल गये सभी

नई दिल्ली विपक्षी दलों की बैठक में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शुक्रवार को कहा कि कोविड-19 लॉकडाउन का कोई नतीजा सामने नहीं आया। इस बैठक में 22 दल शामिल हुए। राहुल गांधी ने कहा, “लॉकडाउन के दो मकसद थे, बीमारी (कोरोना) को रोकना और इसके प्रसार को रोकना लेकिन संक्रमण बढ़ रहा है।”

उन्होंने कहा, “आज संक्रमण बढ़ रहा है लेकिन हम लॉकडाउन को हटा रहे हैं। इसका मतलब है कि लॉकडाउन को बिना सोचे समझे लागू किया गया और इसने सही परिणाम नहीं दिया।”

राहुल ने कहा कि लॉकडाउन ने करोड़ों लोगों को भारी नुकसान पहुंचाया है। लेकिन सरकार उनकी मदद नहीं कर रही है और न ही 7,500 रुपये नकद उनके खातों में डाल रही है। अगर उन्हें राशन नहीं दिया जाता है, अगर प्रवासियों और एमएसएमई कामगारों की मदद नहीं की जाती है तो यह भयावह होगा।

उन्होंने कहा, “हम पैकेज को स्वीकार नहीं करते हैं, लोग ऋण नहीं बल्कि सहायता चाहते हैं। हमारी जिम्मेदारी है कि हम अपनी आवाज उठाएं। यह देश के लिए है, पार्टियों के लिए नहीं। अगर कुछ नहीं किया गया तो करोड़ों लोग गरीबी में धकेल दिया जाएंगे।”

इससे पहले सोनिया गांधी ने अपनी टिप्पणी में तीखा हमला किया और कहा कि संघवाद की भावना को भुला दिया गया है।

उन्होंने कहा कि सारी शक्ति अब एक कार्यालय, पीएमओ में केंद्रित है। संघवाद की भावना जो हमारे संविधान का एक अभिन्न अंग है, इसे भुला दिया गया है।

(आईएएनएस)

संबंधित पोस्ट

लॉकडाउन से पस्त पान विक्रेता संघ कलेक्टर से मिला, मांगी इजाजत

सरकार प्रवासियों की दुर्दशा देखे, उन्हें 7,500 रुपये दे : सोनिया

कोरोना महामारी से प्रभावित रणवीर सिंह ने बताए अपने अनुभव

बड़ी तादाद में प्रवासी मजदूरों की वापसी बिहार सरकार के लिए चुनौती

लॉकडाउन में भटक रहे मासूम को ओडिशा कैडर आईपीएस का सहारा

संकट की यह घड़ी हमें एकजुट रहना सिखा रही कोरोना : आशा भोंसले

मप्र : सिंधिया के प्रभाव वाले जिलों की कांग्रेस कार्यकारिणी भंग

उप्र : बिहार से दुल्हन लेकर 60 दिनों बाद घर लौटी ‘बारात’, सभी क्वारंटाइन

पीएम केयर फंड पर कांग्रेस के ट्वीट के लिए सोनिया के खिलाफ एफआईआर

सोनिया-राहुल की मौजूदगी में लांच हुई “राजीव गांधी किसान न्याय योजना”

कोरोना काल में कांग्रेस का संघ पर निशाना, कहां गई RSS और उनकी जनसेवा ?

मप्र : सड़क हादसे में प्रवासी मजदूर के दो बच्चों समेत 4 की मौत