सीएए के खिलाफ रणनीति बनाएंगे विपक्ष दल

समान विचारधारा वाली सभी पार्टियों की आज होगी बैठक

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ देशभर में प्रदर्शनों के बीच साझा रणनीति बनाने के लिए कांग्रेस ने समान विचारधारा वाली सभी पार्टियों को सोमवार को एक बैठक के लिए आमंत्रित किया है। सीएए के खिलाफ एक संयुक्त रणनीति बनाने के लिए और छात्रों के खिलाफ पुलिस की कथित बर्बरता के विरोध में सभी विपक्षी दल आज दोपहर दो बजे संसद उपभवन में बैठक करेंगे।

कांग्रेस ने समान विचारधारा की सभी पार्टियों को एक साझा मंच पर आने का आमंत्रण भेजा है।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष ममता बनर्जी ने हालांकि बैठक में शामिल होने से इंकार कर दिया है। इनके अलावा उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने भी बैठक में शामिल होने की पुष्टि नहीं की है।

कांग्रेस सूत्रों ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि सभी विपक्षी राजनीतिक दल इस बैठक में शामिल होंगे।

समाजवादी पार्टी (सपा) और कांग्रेस के नए गठबंधन साझेदार शिवसेना बैठक में शामिल हो सकते हैं।

कांग्रेस वर्किं ग कमेटी (सीडब्ल्यूसी) ने पहले ही सीएए और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) को वापस लेने की मांग की है।

सीडब्ल्यूसी के इस मुद्दे पर अपना रुख स्पष्ट करते ही कांग्रेस शासित राज्य इस संकल्प को अपना सकते हैं।

सीडब्ल्यूसी ने शनिवार को एक बैठक में एक संकल्प पारित करने के बाद कहा, “(प्रधानमंत्री) नरेंद्र मोदी की अगुआई वाली केंद्र सरकार ने देशभर के युवाओं और छात्रों की आवाज का दमन करने, वश में करने या दबाने के लिए क्रूरता अपनाई है।”

संबंधित पोस्ट

कोरोना मरीजों के शवों से भर गया दिल्ली का पंजाबी बाग श्मशान घाट, वीडियो वायरल

राहुल ने पर्यावरण दिवस पर संत कबीर के दोहे साझा किए

गुजरात : कांग्रेस को एक और झटका, मोरबी विधायक ने इस्तीफा दिया

सरकार प्रवासियों की दुर्दशा देखे, उन्हें 7,500 रुपये दे : सोनिया

लॉकडाउन से कोई नतीजा नहीं, बल्कि जनता को हुआ भारी नुकसान : राहुल गांधी

मप्र : सिंधिया के प्रभाव वाले जिलों की कांग्रेस कार्यकारिणी भंग

पीएम केयर फंड पर कांग्रेस के ट्वीट के लिए सोनिया के खिलाफ एफआईआर

कोरोना काल में कांग्रेस का संघ पर निशाना, कहां गई RSS और उनकी जनसेवा ?

सीधे गरीबों की जेब में दें पैसा, पैकेज पर दुबारा विचार करें

राहुल गांधी ने समर्थकों की उम्मीदों पर फेरा पानी, वापसी न करने के दिए संकेत

ईस्ट इंडिया कंपनी की तरह व्यवहार कर रही केंद्र सरकार : कांग्रेस

कांग्रेस और भाजपा के बीच प्रवासी मजदूरों के किराए को लेकर छिड़ी जंग