राजनीति में ” प्रियंका ” की इंट्री, महासचिव पद के साथ मिला चुनावी जिम्मा

प्रियंका गांधी की इंट्री देशभर के कार्यकर्ताओं में नया जोश

 

नई दिल्ली / रायपुर। लोकसभा चुनाव के ठीक पहले अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी ने एक बड़ा फेरबदल किया है। इस फेरबदल में प्रियंका गांधी अब मेन स्ट्रीम की पॉलिटिक्स में आ चुकी है।

अब तक राजनीति से दूर रहने की बात कहने वाली प्रियंका गांधी को उनके भाई और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी का महासचिव नियुक्त किया है। राहुल ने ना सिर्फ प्रियंका को राष्ट्रीय महासचिव नियुक्त किया है, बल्कि उन्हें पूर्वी यूपी का प्रभारी भी नियुक्त किया है। प्रियंका की हुई इस बड़ी जिम्मेदारी के साथ राजनीति में एंट्री को कांग्रेस का एक बड़ा सियासी पैंतरा माना जा रहा है। हालांकि अब तक प्रियंका गांधी भाई राहुल गांधी और अपनी मां सोनिया गांधी के लिए लोकसभा चुनाव में लगातार प्रचार करती रही है, लेकिन वह खुद को राजनीति से दूर बताने में भी कोई कोर कसर नहीं छोड़ रही थी। इन सभी बातों पर विराम लगाते हुए राहुल गांधी ने उनकी नियुक्ति पार्टी में बतौर राष्ट्रीय महासचिव कर दी है। जिसके बाद अब प्रियंका फुल फ्लैश में आकर सियासी दांव पेच में अपनी हिस्सेदारी निभाएंगी।

दादी इंदिरा की दिखती है छवि
प्रियंका गांधी के अंदर उनकी दादी और देश की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की छवि को कांग्रेसी कार्यकर्त्ता तलाशते है। प्रियंका गांधी की रैलियों और सभाओं में कार्यकर्ताओं का एक अलग उत्साह नज़र आता है। प्रियंका के भाषणों में भी उनकी दादी इंदिरा की झलक नज़र दिखाई पड़ती है।

मुखिया भूपेश बघेल ने दी बधाई
प्रियंका गांधी की नियुक्ति के बाद से ही उन्हें बधाईयों का एक दौर सा चल पड़ा है। प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी उन्हें ट्वीट कर बधाई दी है। बघेल ने ट्वीट करते हुए लिखा- ” प्रियंका गांधी जी को नयी जिम्मेदारी के लिए अनंत शुभकामनाएं। कार्यकर्ता कई वर्षों से मांग कर रहे थे कि प्रियंका जी सक्रिय राजनीति में आएं। कार्यकर्ताओं की मांग पूरी करने के लिए @RahulGandhi जी का आभार। “