बलात्कारियों को मिले सजा-ए-मौत, जूनियर जोगी ने लिखा सीएम को पत्र !

 

रायपुर। महिलाओं से अनाचार के आरोपियों को मृत्युदंड दिया जाना चाहिए। इसके लिए मैंने कई दफ़े सरकार से पत्राचार किया था मगर सरकार ने उन पत्रों को रद्दी समझ कर धूल खाने कही किसी आलमारी में रख दिया है। ये कहना है मरवाही विधायक अमित जोगी का। अमित जोगी ने एक बार फिर इस मामलें को लेकर मुख्यमंत्री को स्मरण पत्र लिखा है। पत्र में जनवरी 2018 में लिखे पत्र का सन्दर्भ देते हुए अमित जोगी ने लिखा है कि उक्त पत्र में जोगी ने मुख्यमंत्री के संज्ञान में लाया था कि राष्ट्रीय क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एन. सी.आर. बी) की रिपोर्ट के अनुसार महिला अत्याचार के मामलों में छत्तीसगढ़ का देश में तीसरा स्थान है जिसकी मुख्य वजह कहीं न कहीं दुराचारियों के विरुद्ध मजबूत कानून का न होना है।
आज लिखे पत्र में अमित जोगी ने लिखा है कि मध्यप्रदेश के बाद अब उनकी ही पार्टी की हरियाणा सरकार ने भी ऐसे आरोपियों को मृत्युदंड दिए जाने के प्रावधान के लिए कानून प्रस्तावित किया है। इतना ही नहीं अब केंद्रीय महिला और बाल विकास मंत्री श्रीमती मेनका गाँधी और छत्तीसगढ़ महिला आयोग ने भी 12 वर्ष से कम उम्र की बच्चियों के साथ दुष्कर्म करने वाले आरोपियों को मृत्युदंड दिए जाने की मांग की है।

विशेष सत्र बुलाकर संशोधन की रखी मांग
जूनियर जोगी ने लिखा है कि छत्तीसगढ़ की हमारी माताओं, बहनों और बेटियों की मुख्यमंत्री से यह अपेक्षा है कि मामले की गंभीरता को देखते हुए अतिशीघ्र छत्तीसगढ़ विधानसभा का एक दिवसीय विशेष सत्र बुलाकर विधेयक पेश किया जाए जिसके तहत छत्तीसगढ़ की वर्तमान दंड विधि में संशोधन करते हुए महिला दुराचार के आरोपियों को मृत्युदंड दिए जाने का प्रावधान हो।

संबंधित पोस्ट

रायपुर की गुनविन बनीं कीट नन्हीपरी लिटिल मिस इंडिया 2019

कांग्रेस की महिला दावेदारों ने दी आत्महत्या की धमकी

आईटीबीपी के मारे गए जवानों को दी गई अंतिम बिदाई

आंकलन का भी वक्त

मुख्यमंत्री निवास में सीएम भूपेश ने मनाया गोवर्धन तिहार

दो साल बाद बदलेगा मुख्यमंत्री निवास का पता, CM भूपेश ने किया भूमिपूजन

धनतेरस : धनतेरस पर खरीदी से ज़्यादा ज़रूरी है ये बातें…

नवनिर्वाचित विधायक राजमन बेंजाम ने ली शपथ

अब 21 साल का भी हो सकता है महापौर और पंचायत अध्यक्ष

सरकारी बंगला खाली करेंगे विक्रम, रमन के बन सकते है पडोसी

सूपेबेडा में बोली राज्यपाल अनुसुइया, केंद्र की एक टीम से भी कराएंगे जाँच

सरकार के ख़िलाफ़ किसानों का देशव्यापी आंदोलन