फिर सामने आई एसकेएस इस्पात की लापरवाही, लैब हेल्पर की मौत

रायपुर। सिलतरा के एसकेएस इस्पात में कल हुए हादसे में फिर एक मौत हो गई। बताते है कि कन्वेयर बेल्ट में फंसकर इसकी मौत हुई। जिसके बाद कर्मचारियों के साथ स्थ्यनीय लोगों का गुस्सा फूटा। कर्मचारियों ने सुरक्षा मानकों की अनदेखी का आरोप लगाते हुए कहा कि फैक्ट्री प्रबंधन की लापरवाही से ये मौत हुई है। इधर हादसे की खबर फैलने के बाद ग्रामीण बड़ी संख्या में एसकेएस इस्पात पहुंचे और शव को कम्पनी से बाहर नहीं आने दिया। ग्रामीणों ने 50 लाख रुपए मुआवजा देने और दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने की मांग की।
बता दें कि मृतक का नाम विष्णु साहू था। वो कंपनी के लैब में हेल्पर के रूप में कार्यरत था, शाम की शिफ्ट में रोज़ की तरह वो काम करने गया था, जहां ये हादसा हुआ। बुधवार देर शाम को जिस हॉपर में गर्म माल आकर गिरता है, उसमें से माल अचानक कम मात्रा में गिरने लगा। जब दूसरे मजदूर इसका पता लगाने के लिए मौके पर पहुंचे, तो वहां विष्णु का शव दिखाई दिया। कड़ी मशक्कत के बाद उसके शव को बाहर निकाला जा सका। शव को पोस्टमॉर्टम के लिए जब भेजा जाने लगा, तो आक्रोशित गांववालों ने उन्हें रोक दिया। इधर जांच पड़ताल के लिए पहुंचे टीआई भूषण एक्का ने कहा कि मृतक बालिग है या नाबालिग ये प्रमाणपत्र देखने के बाद ही पता चलेगा और जांच में जो भी दोषी पाए जाएंगे, उनके विरुद्ध मामला दर्ज होगा।

नहीं मिले अब तक सुरक्षा उपकरण
कई घटनाओं के बाद भी एसकेएस इस्पात के करीम्सहारियों को सुरक्षा उपकरण नहीं मिल पाए है। इस घटना ने एक बार फिर औद्योगिक ईकाईयों में सुरक्षा उपकरणों की अनदेखी ओर लापरवाही को उजागर किया है। बताया जाता है कि मृतक कब और कैसे गर्म माल के हॉपर में पहुंचा, ये किसी ने नहीं देखा। साथी श्रमिक ने बताया कि मृतक लैब में हेल्पर था और माल टेस्ट के लिए लैब ले जाता था। हो सकता है कि दोपहर के आसपास माल उठाने गया हो और उसकी चपेट में आ गया हो।